Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय

Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय

Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय

शरीर के किसी अंगो के ऊपर सफेद दाग का हो जाना एक बहुत बड़ी जटिल समस्या बनती जा रही है आमतौर पर इसे सफेद दाग के नाम से जाना जाता है लेकिन कई जगह पर इसे कुष्ठ रोग का नाम भी दिया गया है ज्यादातर लोग इसे छुआछूत की नज़रों से भी देखते हैं लेकिन शरीर के ऊपर का त्वचा का सफेद होना कोई छुआछूत की बीमारी नहीं है यह किसी प्रकार का संक्रमण का रोग नहीं है शरीर पर हो रहे सफेद दाग को आसानी से खत्म किया जा सकता है (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

शरीर पर हो रहे सफेद दाग को जड़ से खत्म करने के लिए हमें कुछ घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल लगातार करना होगा हालांकि इस समस्या को हम कम समय में तो नहीं लेकिन लगातार उपयोग करने से घरेलू नुस्खों की मदद से हम इसे हमेशा के लिए खत्म कर सकते हैं शरीर पर हो रहे सफेद दाग को कुष्ठ रोग का नाम भी दिया गया है कई जगह पर उसे कुष्ठ रोग के नाम से जाना जाता है कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग के नाम से लोगों के मन में यह शंका उत्पन्न हो जाती है कि यह एक संक्रमण का बीमारी है यह संक्रमण का रोग है और इससे लोग काफी डर जाते हैं

लेकिन यह बिल्कुल सही नहीं है आप इसे संक्रमण का रोग ना समझे यह बिल्कुल एक इंसान से दूसरे इंसान में नहीं फैलती है यह एक चमड़े का रोग है जिसे हम स्किन डिजीज भी कह सकते हैं शरीर में यदि कोशिकाएं मरने लगती है तो यह शरीर के रंग को बदल देता है जिससे सफेद रंग हमारे चेहरे पर फैलने लगता है जैसे जैसे हमारे शरीर के ऊपर कोशिकाएं मरती जाएंगी यह रंग बढ़ता जाता है आइए हम चेहरे पर हो रहे सफेद दाग अर्थात कुष्ठ रोग के कारण को जानते हैं कौन से ऐसे कारण है जिससे शरीर के अंदर कुस्ट रोग और सफेद दाग शरीर को प्रभावित करने लगते हैं (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

सफ़ेद दाग होने का सबसे प्रमुख लक्षण विरोधी भोजन को माना जाता है विरोधी भोजन कहने का मतलब यह है कि ऐसे दो प्रकार के भोजन जिसे एक साथ लेने से हमारे शरीर के अंदर कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होना शुरू हो जाता है बहुत सारे ऐसे भोजन हैं जिस दो तरह के भोजन को एक साथ नहीं लिया जा सकता है लेकिन जानकारी के अभाव में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो ऐसे भोजन को एक साथ करते हैं ऐसे में इंसान के शरीर के अंदर सफेद दाग का फैलना शुरू हो जाता है

आगे चलकर यह इतना ज्यादा प्रभावशाली हो जाता है कि यह पूरे शरीर को अपने प्रभाव में ले लेता है दूध दही के साथ किसी प्रकार का मांसाहारी भोजन करना सफ़ेद दाग तथा कुष्ट रोग के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं बहुत सारे लोगों में यह देखा जाता है कि वह मांस के साथ दही का सेवन करते हैं और यह भोजन विरोधी माना जाता है यदि मांसाहारी भोजन के साथ दूध दही का इस्तेमाल किया जाए तो इंसान के शरीर के अंदर सफेद दाग या कुष्ठरोग होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है शरीर के अंदर जमा हो रहे विषैले तत्व को बाहर निकलने से रोकना भी इस रोग का प्रमुख लक्षण माना जाता है(Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि कोई इंसान अपने मल मूत्र के त्याग में आलसपन करता है या फिर सही समय के अनुसार मल मूत्र त्याग नहीं करता है तो ऐसे में शरीर के अंदर विषैले तत्व हमारे शरीर के अंदर कोशिकाओं को खत्म करने लगते हैं जो आगे चलकर सफेद दाग कुष्ठ रोग के लक्षण के जरिए नजर आने लगते हैं बहुत सारे शाकाहारी लोगों को दूध, दही, मिठाई, रबरी इत्यादि भोजन करने का शौक होता है लेकिन इन सभी तरह के भोजन का एक साथ सेवन करने से हमारे शरीर के अंदर सफेद दाग तथा कुष्ठ रोग जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगाती है अतः ऐसे में  इंसान को इन सभी प्रकार के मिष्ठान भजनों का एक साथ सेवन नहीं करना चाहिए इन सभी प्रकार के भोजन को हम अलग अलग कर सकते हैं क्योंकि एक साथ भोजन करने से यह सभी विरोधी भोजन के श्रेणी में आता है (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

आप सभी ने उड़द के दाल का नाम आवश्य सुना होगा उड़द के दाल के अत्यधिक सेवन करने से शरीर के अंदर कुष्ट रोग तथा सफेद दाग होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है साथ ही साथ ज्यादा तेल मसाले और गरिष्ठ भोजन का भी सेवन नहीं करना चाहिए हमें हमेशा ऐसे भोजन का सेवन करना चाहिए जो हमारे शरीर के अंदर आसानी से पच सके गरिष्ठ भोजन के सेवन करने से शरीर के अंदर कुष्ठरोग होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है और गरिष्ठ भोजन कुष्ठ रोग के होने के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं

अत्यधिक मात्रा में नमक के सेवन करने से भी शरीर के अंदर सफेद दाग और कुष्ठ रोग के होने की संभावना बढ़ जाती है बहुत सारे ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें ज्यादा नमकीन वस्तु को खाने की आदत है ऐसे में ऐसे व्यक्तियों को इस रोग के होने की संभावना ज्यादा होती है अतः हमेशा कोशिश करें कि अपने भोजन में स्वाद अनुसार से थोड़ी सी कम नमक का उपयोग करें नमक के उपयोग करते समय हमें यह बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि हमारा नमक आयोडीन युक्त नमक है या नहीं आप हमेशा आयोडीन युक्त नमक का ही सेवन करें (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

साधारण नमक के सेवन करने से ना केवल शरीर के अंदर सफेद दाग कुष्ठ रोग जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है इसके साथ साथ कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है जैसे घेघा रोग की परेशानी रीड की हड्डी में पानी होना इन सभी तरह की समस्याएं हमेशा साधारण नमक खाने से होती है सफेद दाग का होना एक अनुवांशिक रोग भी माना जाता है यदि किसी व्यक्ति के शरीर के अंदर सफेद दाग कुष्ठ रोग की परेशानी नजर आ रही हो तो ऐसे में उनके आने वाली पीढ़ियों को भी यह रोग होने की संभावना बढ़ जाती है हालांकि इस रोग का पूर्ण रूप से उपचार किया जा सकता है

हमें आयुर्वेदिक नुस्खों के उपयोग करने से इस रोग से छुटकारा मिल सकता है लेकिन इस रोग से छुटकारा पाने के लिए हमें हम थोड़ा सा धैर्य रखना अति आवश्यक है अर्थात सफेद दाग को अचानक से और जल्दबाजी में ख़तम नहीं किया जा सकता इसे खत्म करने के लिए निरंतर औषधियों का सेवन और धैर्य रखना अति आवश्यक है ऐसे व्यक्ति जिन्हे कुछ दिनों से सफेद दाग कुष्ठ रोग की समस्याएं उत्पन्न हो रही है उन्हें अखरोट का सेवन अत्यधिक मात्रा में करना चाहिए अखरोट का सेवन अत्यधिक मात्रा में करने से शरीर के अंदर उत्पन्न हो रहे सफेद दाग में काफी राहत महसूस होती है(Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

निरंतर अखरोट के उपयोग करने से धीरे-धीरे शरीर के ऊपर उत्पन्न हो रहे हैं सफेद दाग खत्म होने लगते हैं जैसा कि मैंने पहले ही बताया है कि सफेद दाग को पूर्ण रूप से खत्म करने के लिए थोड़ा सा समय की आवश्यकता होती है इसलिए हमें औषधि के सेवन करने के साथ-साथ धैर्य रखना भी अति आवश्यक है किसी भी स्वस्थ इंसान के शरीर के ऊपर सफेद दाग होने के कई सारे कारण हो सकते हैं पराबैगनी किरणों के प्रभाव के कारण भी कई बार शरीर के ऊपर सफेद दाग होना शुरू हो जाता है

शरीर के अंदर विटामिन बी की कमी भी सफ़ेद दाग या कुष्ट रोग होने के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं त्वचा के ऊपर किसी प्रकार के रोग या संक्रमण का होना भी सफेद दाग को जन्म देने के लिए सफल साबित होता है आइए हम घरेलू नुस्खे के अन्य उपाय के बारे में जानते हैं आप सभी ने तांबा का नाम आवश्य सुना होगा तांबा हमारे शरीर के लिए बहुत अति आवश्यक तत्व माना जाता है तांबा हमारे शरीर के त्वचा के मेलैनिन के निर्माण के लिए अति आवश्यक है ऐसे व्यक्ति के शरीर के ऊपर सफेद दाग कुष्ठ रोग का प्रभाव शुरू हो चुका है ऐसे में ऐसे इंसान को तांबे के जग में पानी रखकर रातभर छोड़ देना है (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

और सुबह उठकर तांबे के जग में रखे हुए पानी का सेवन करना है ताम्बे के जग में रखे पानी के सेवन करने से शरीर के अंदर उत्पन्न हो रहे सफेद दाग या कुष्ठ रोग में काफी राहत प्राप्त होता है आप सभी ने हल्दी का नाम आवाज सुना होगा हल्दी में बहुत सारे ऐसे रोग निरोधक और रोग को अन्य प्रकार के रोग को खत्म करने की क्षमता है जो हमारे शरीर के अंदर उत्पन्न हो रहा है बहुत सारे रोगो को जड़ से खत्म करने में हमें मदद करती है सफेद दाग और कुष्ठ रोग में हल्दी का बहुत बड़ा महत्वपूर्ण स्थान है

सरसों के तेल के साथ हल्दी का पाउडर का लेप बनाकर हमें प्रभावित जगह पर लगाने से सफेद दाग और कुष्ठ रोग में बहुत ज्यादा राहत महसूस होता है हल्दी के पाउडर के साथ तेल का उपयोग करने के साथ-साथ आप हल्दी के पाउडर को नीम की पत्ती के साथ पीस के इसका लेप  भी प्रभावी जगह पर लगा सकते हैं सफेद दाग से प्रभावित उन सभी जगह पर इन लेप के लगाने से धीरे-धीरे यह दाग खत्म होने लगते हैं

साथ ही साथ यह जानना भी जरूरी है कि यदि किसी इंसान के शरीर के ऊपर बहुत ज्यादा सफेद दाग हो चुका है तो धीरे-धीरे इन सफेद दाग के बीच काले धब्बे उगने लगते हैं क्योंकि जब सफेद दाग जड़ से खत्म होने लगता है तो बीच बीच में यह चितकबरा रंग छोड़ने लगता है ऐसे में रोगी को घबराने की बिल्कुल जरूरत नहीं है यह लक्षण शरीर के ऊपर उत्पन्न हो रहे सफेद दाग को खत्म करने के लक्षण को दर्शाता है (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि मेरे द्वारा दी गई जानकारी आप सभी को पसंद आई हो तो आप इसे अपने दोस्त और परिवारों के बीच अवश्य शेयर कर दे। ताकि कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग की समस्या से जूझ रहे उन सभी लोगों को राहत महसूस हो। यदि आप सभी को किसी अन्य प्रकार का कोई प्रश्न पूछना हो या आप उस जानकारी के संदर्भ में कुछ बताना चाहते हो। तो आप हमें कमेंट करके आसानी से बता सकते हैं। कमेंट करने का विकल्प आपको इस पोस्ट के नीचे आसानी से प्राप्त हो जाएगा। (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि आप किसी खास मुद्दे पर हम से बातचीत करना चाहते हैं। तो आप हमें ईमेल के जरिए बता सकते हैं। साथ ही साथ आप हमें कमेंट के जरिए और मैसेज के जरिए भी बता सकते हैं। मैसेज करने का विकल्प आपको हमारे वेबसाइट के होमपेज पर आसानी से प्राप्त हो जाएगा। यदि आप कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग के बारे में किसी अन्य जानकारी को रखते हैं। या आप कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग को जड़ से खत्म करने के बारे में किसी अन्य घरेलू नुस्खे को जानते हैं। तो आप हमारे साथ ऐसी जानकारी शेयर कर सकते हैं। (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि आपके द्वारा दी गई जानकारी सत्य साबित होती है। तो हम आपके द्वारा दी गई जानकारी अपने वेबसाइट पर आपके नाम के साथ अवश्य करेंगे। यदि आपको इस पोस्ट के अर्थात इस जानकारी के पढ़ने के समय किसी प्रकार की दुविधा या परेशानी उत्पन्न हो रही हो। तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। समय-समय पर हम अपने दिए गए जानकारी को अपडेट करते रहते हैं। (Leucoderma कुष्ठ रोग तथा सफेद दाग होने के कारण लक्षण और उपाय)

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

7 Comments

  1. Pingback: बदहजमी (indigestion) अपच की समस्या का उपचार कैसे करे | Limant
  2. Pingback: Chicken pox चेचक का घरेलू नुस्खे की मदद से उपचार | Limant

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us