Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार

Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार

Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार

आजकल ज्यादातर लोग पीलिया के गंभीर समस्या अर्थात जोंडिस जैसी खतरनाक बीमारियों से जूझ रहे हैं। यह रोग ज्यादातर गर्मी के समय में इंसानों को प्रभावित करती है। या दूसरी भाषा में कहा जाए। तो जब इंसानी शरीर के अंदर गर्मी ज्यादा बढ़ जाती है। तो यह रोग इंसान इंसान को आसानी से अपनी चपेट में ले लेता है। आज इसी गंभीर समस्या पर हम विस्तार से चर्चा करेंगे। आज हम जानेंगे कि पीलिया अर्थात जॉन्डिस होने का मुख्य कारण क्या है। और किस प्रकार से हम घरेलू नुस्खों के साथ पीलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म कर सकते हैं। तो सबसे पहले आइए हम जानते हैं कि पीलिया रोग क्या है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

Arthritis गठिया रोग के लक्षण और इसके बचाव से उपचार की जानकारियां

अर्थात जॉन्डिस किसे कहते हैं। यह एक विशेष प्रकार के वायरस के कारण हमारे शरीर के अंदर फैलती है। ज्यादा लोगों में देखा जाता है कि वह पीलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी के लक्षण में यह शरीर में गर्मी ज्यादा बढ़ने से हो जाती है। लेकिन यह गर्मी बढ़ने का मुख्य कारण हमारे शरीर के अंदर फैल रहे वायरस होती है। इस वायरस का हमारे शरीर में बढ़ जाने से हमारे शरीर के अंदर पित्त की मात्रा बढ़ जाती है। जिससे शरीर के सफ़ेद भाग पीला होने लगता है। और साथ ही साथ रोगी के नाखून एवं आंखों के सफेद भागों में भी पीलापन छाने लगता है। ज्यादातर लोगों में शुरुआती दौर में यही देखा जाता है। कि जब किसी व्यक्ति को पीलिया अर्थात जोंडिस जैसे खतरनाक वायरस और बीमारी के प्रभाव में आने के कारण उनके नाखून और उनके आंखों के सफेद बालों में पीलापन छाने लगता है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

Snake Poison First Treatment सांप के विष का उपचार Limant Post

साथ ही साथ रोगी को भूख ना लगना। खाए हुए खाने हमारे शरीर के अंदर ठीक तरह से नहीं पचना। इन सभी तरह के लक्षण भी पिलिया अर्थात जॉन्डिस के खतरनाक बीमारी के लक्षण को ही दर्शाता है। यदि सही समय पर पीलिया और जॉन्डिस का उपचार नहीं किया गया। तो यह आगे जाकर हेपेटाइटिस जैसी खतरनाक बीमारी का रूप धारण कर लेती है। शायद आप लोगों ने हेपेटाइटिस बी के बारे में अवश्य सुना होगा। एक बार यदि किसी रोगी को हेपेटाइटिस बी की बीमारी लग जाए। तो उसे जल्द से जल्द काबू कर पाना बहुत मुश्किल होने लगता है। अतः यदि शुरुआती दौर में ही हम जॉन्डिस अर्थात पीलिया जैसे खतरनाक बीमारी को सही करने के लिए औषधि का सेवन करते हैं। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

Asthma अर्थात दमा के विकार के उपचार की हिंदी में जानकारी

तो हम बहुत जल्द ही इस खतरनाक बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं। साथ ही साथ आपको यह जानना भी बहुत ज्यादा जरुरी है कि पीलिया एक वायरस से होने वाला रोग है। और यह एक दूसरे के शरीर में फैल भी सकता है। एक शरीर के अंदर से दूसरे शरीर के अंदर यह वायरस जाने के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। इसीलिए इसे छुआछूत की बीमारियों के दृष्टिकोण से भी देखा जाता है। यदि कोई भी पिलिया और जॉन्डिस से ग्रसित रोगी खुले में शौच या मल त्याग करता है। तो इसके संपर्क में आने के बाद स्वस्थ व्यक्ति को भी इन बीमारियों का शिकार होना पड़ सकता है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

How to increase height लम्बाई कैसे बढ़ाए हिंदी में जानकारी

मैंने आप सभी को पहले ही बताया है कि जॉन्डिस अर्थात पीलिया एक वायरस से फैलने वाला रोग है। और यह एक इंसान से दूसरे इंसान के शरीर के अंदर आसानी से पहुंच सकता है। तो आइए हम जानते हैं कि हमारे शरीर के अंदर पीलिया अर्थात जोंडिस जैसे खतरनाक रोग की उत्पत्ति कैसे होती है। कुछ ऐसे लक्षण हैं। इसकी वजह से एक स्वस्थ इंसान भी पिलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी के प्रभाव में आ जाता है। ऐसे व्यक्ति को अपने शरीर में गलत और दूषित रक्त चढ़वाने से यह रोग फैल सकता है। ज्यादा शराब पीने के कारण भी यह रोग आसानी से किसी स्वस्थ व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

फाइलेरिया हाथीपाँव क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार कैसे करे

यदि कोई व्यक्ति ज्यादा मात्रा में चाय या कॉफी का सेवन करता है। तो ऐसे व्यक्ति को भी आसानी से पीलिया अपनी चपेट में ले लेती है। यदि किसी रोगी को एक बार पीलिया के लक्षण या पीलिया के वायरस के प्रभाव में आ चुके हैं। तो इस को पहचानने के लिए बहुत सारे ऐसे आसान उपाय हैं। जिनकी मदद से आप आसानी से पीलिया के खतरनाक लक्षणों को पहचान सकते हैं। त्वचा के सफेद हिस्से पीले होने लगते हैं। यह पीलिया के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं। अचानक से ठंड लगने लगना भी पीलिया के रोग के लक्षण  में ही आते हैं। बिना किसी कारण और अचानक से बुखार का लगना भी पीलिया के लक्षण माने जाते हैं।

आंवला के गुण और आंवला के उपयोग से रोगों का उपचार हिंदी में जानकारी

भूख का कम लगना पेट में दर्द होना कभी कभी पेट में मरोड़ आना वजन घटना हाथों में अजीब सी बदबू का आना यह सभी पीलिया के लक्षण माने जाते हैं। तो आइए हम बात करते हैं कि पीलिया और जॉन्डिस जैसे रोग को कैसे हम घरेलू नुस्खे की मदद से जड़ से खत्म कर सकते हैं। आज जिस औषधि का निर्माण करने की विधि मैं आपको बताने जा रहा हूं। यह पीलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी में रामबाण इलाज साबित हो सकता है। इसके एक खुराक उपयोग में लाने से 1 दिन में ही पीलिया जैसे खतरनाक रोग को आसानी से दूर किया जा सकता है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

Piles अर्थात बवासीर के शुरुवाती संकेत लक्षण और उपचार

लेकिन आप सभी को एक बात का विशेष रुप से ध्यान देना है। कि यदि आप इस नुस्खे का उपयोग 12 साल के ऊपर के लोगों पर करने जा रहे हैं। तब तो यह ठीक है। लेकिन आपको 12 साल के कम उम्र के बच्चों पर इस औषधि का उपयोग नहीं करना है। कम उम्र के बच्चों को इस औषधि के सेवन करवाने से पहले आपको यह पूरी जानकारी को अच्छे से पढ़ लेना है। क्योंकि 12 साल के कम उम्र के बच्चों को यह दवाई की मात्रा कम करके देनी है। इस नुस्खे और औषधि के निर्माण करने के लिए आपको आवश्यकता होगी फिटकिरी का फिटकिरी का नाम आपने अवश्य सुना होगा। हमें इस औषधि के निर्माण में कच्ची फिटकिरी का उपयोग करना है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

और दूसरा हमें कच्ची फिटकरी के साथ दही का उपयोग करना है। आइए हम जानते हैं कि हम इस औषधि का निर्माण कैसे करेंगे। इसके निर्माण करने से पहले आपको फिटकिरी को बिल्कुल बारीक़ पीस लेना है। अब आपको पिसे हुए पाउडर से 3 ग्राम फिटकरी पाउडर लेना है। और इसके बाद इसे दही में मिक्स कर देना है। जब यह अच्छी तरह से एक दूसरे से मिल जाए। तो हमें इसे रोगी को दवा के तौर पर पिला देना है। एक खुराक देने के बाद आप को उस रोगी को दूसरे खुराक देने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि यह एक ऐसा नुस्खा है। जो एक ही खुराक से खतरनाक से खतरनाक पीलिया और जॉन्डिस जैसे बीमारी को दूर कर सकता है।

Kidney Stone क्या है Kidney से Kidney Stone को बाहर निकलने के सरल उपाय

इस औषधि के सेवन करवाने के बाद एक बात का विशेष ध्यान देना है कि जिस रोगी को आप इस औषधि का सेवन करवा रहे हैं। उसे आप पानी बिलकुल पीने ना दे। रोगी को प्यास लगे आप कोशिश करें कि दही और दही का पानी मिलाकर बनाया जाने वाले लस्सी का सेवन करवाएं। जितना ज्यादा से ज्यादा आप दही और लस्सी का सेवन करवा सकते हैं। रोगी को करवाएं। कोशिश करें कि आप रोगी को पानी की मात्रा बिल्कुल ना दें। दिन भर में जितने ज्यादा से ज्यादा आप रोगी को दही का सेवन करवाएंगे। उसे उतनी जल्दी पीलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी से राहत मिलेगी। जैसा की मैंने आप सभी को पहले भी बताया है कि आपको एक खुराक के बाद दूसरी खुराक देने की कोई जरूरत नहीं है। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

Heart Attack यानी दिल का दौरा आने से पहले के संकेत और उपचार

अतः आप रोगी को एक खुराक यह औषधि को देने के बाद पूरे दिन दही और लस्सी का ही सेवन करवाएं। आपको इस बात का ध्यान रखना है कि इस औषधि के प्रयोग करने के बाद हो सकता है कि रोगी को उल्टी आए ऐसे समय में आपको बिल्कुल घबराना नहीं है। पूरे दिन रोगी को किसी भी प्रकार का कोई खाना नहीं देना है। शाम के समय उसे थोड़ी सी खिचड़ी खिलानी है। खिचड़ी के अलावा आप रोगी को कुछ ना खिलाए। अगर आप इस तरह के औषधि का सेवन करते हैं। तो आप एक दिन में अपने अंदर हो रहे पीलिया जैसे खतरनाक बीमारी को दूर कर सकते हैं। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

धूम्रपान से मुक्ति धूम्रपान की वजह से फेफड़े में जमा हो रहे गंदगी को साफ़ करे

आप अपने मन की शांति के लिए 2 से 3 दिन के बाद डॉक्टर के पास जाकर पीलिया के रोग का चेकअप करवा सकते हैं। आप को शत प्रतिशत यह पता चल जाएगा कि अब उस मरीज के शरीर के अंदर पीलिया और जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी के कोई लक्षण नहीं पाए जाएंगे। अब आइए हम कुछ पीलिया और जॉन्डिस के खतरनाक बीमारी में किए जाने वाले परहेज के बारे में विस्तार से जानते हैं। हम सभी जानते हैं कि यदि हम किसी रोग का उपचार करते है। तो इसके साथ-साथ हमें परहेज करना भी अति आवश्यक है। यदि हम रोग के उपचार के साथ-साथ उसके परहेज के बारे में विशेष ध्यान नहीं देते हैं। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

15 दिनों में बालो से जुडी समस्याओं का समाधान आयुर्वेद के साथ

तो हमारे द्वारा किए जाने वाले औषधि का उपयोग हमारे शरीर के अंदर किसी भी तरह का कोई लाभ नहीं देगा। अतः यदि किसी रोगी को जोंडिस अथवा पीलिया जैसे खतरनाक बीमारी नजर आ रहे हैं। तो उन्हें अपने खानपान के सेवन में कुछ परहेज बरतना अति आवश्यक है। पीलिया को जड़ से खत्म करने के लिए गर्मी करने वाली चीजों का सेवन हमें बिल्कुल नहीं करना है। हमें ऐसे पदार्थ का सेवन बिल्कुल नहीं करना है। जो हमारे शरीर के अंदर जाकर गर्मी पैदा करता है। जैसे मसालेदार सब्जी अंडे। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय

आलू कटहल मटर मशरूम इत्यादि का सेवन हमारे भोजन में बिल्कुल नहीं करना है। क्योंकि यह सभी पदार्थ हमारे शरीर के अंदर जाकर गर्मी पैदा करती है। जो पीलिया के रोग को और ज्यादा बढ़ाने में मदद करता है। आप ज्यादा से ज्यादा तली-भुनी चीजों को खाने से बचें। और अपने खाने में बिल्कुल ना लें। इस तरह के परहेज से आप जल्द से जल्द जॉन्डिस जैसी खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं। और साथ ही साथ इसे जड़ से खत्म करने में सफल साबित हो सकते हैं। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

लीवर से जुड़ी समस्याओ के संकेत और इसके उपचार

यदि आप हमारे दिए गए जानकारी से संतुष्ट हैं। तो इस पोस्ट को अपने घर परिवार और दोस्तों के बीच अवश्य शेयर कर दें। ताकि उन सभी जरूरतमंदों को यह पता चल सके कि कैसे हम खतरनाक से खतरनाक पीलिया और जोंडिस जैसे रोगों को घरेलू नुस्खे की मदद से आसानी से जड़ से खत्म कर सकते हैं। आप इस पोस्ट के संदर्भ में कुछ कमेंट करना चाहते हैं। तो आपको इस पोस्ट के नीचे कमेंट का विकल्प आसानी से प्राप्त हो जाएगा।

कोलेस्टेरॉल की समस्या के कारन और इसके उपचार

यदि आप हमसे किसी खास मुद्दे पर मैसेज करना चाहते हैं। तो आप हमारे वेबसाइट के होम पेज पर जाकर Facebook के जरिए मैसेज भी आसानी से कर सकते हैं। यदि आप पीलिया और जॉन्डिस के बीमारी के बारे में किसी खास जानकारी को रखते हैं। या इससे जुड़ी किसी खास उपचार के बारे में विस्तार से जानते हैं। तो आप हमें मैसेज ईमेल और कमेंट के जरिए बता सकते हैं। आपके द्वारा दी गई जानकारी सत्य साबित होती है। तो हम आपके द्वारा दी गई जानकारी को आपके नाम के साथ अपने वेबसाइट पर संलग्न करेंगे। (Jaundice- पीलिया रोग के कारण और इसके उपचार)

माइग्रेन के समस्याओ के लक्षण और इसके उपचार

17 Comments

  1. Pingback: माइग्रेन के समस्याओ के लक्षण और इसके उपचार | Limant
  2. Pingback: कब्ज गैस एसिडिटी की समस्या के कारण और इसके उपचार | Limant
  3. Pingback: दाद खाज खुजली के समस्याओं के कारण और इसके उपचार | Limant
  4. Pingback: गठिया रोग के शुरुआती लक्षण और इसके उपचार के उपाय | Limant
  5. Pingback: गठिया रोग के शुरुआती लक्षण और इसके उपचार के उपाय | Limant
  6. Pingback: Paralysis लकवा पक्षाघात के लक्षण कारण और उपचार | Limant

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *