High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

ब्लड प्रेशर क्या होता है। और एक स्वस्थ इंसान का ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए। तो आज इस पोस्ट के माध्यम से मै आप सभी को यह जानकारी प्रदान करूँगा। तो आइये हम जानते है। हमारा दिल जब धमनियों में खून को पंप करता है। तो शरीर के अंदर खून का प्रेशर बढ़ता है। उसे ब्लड प्रेशर कहते हैं। यह दो तरह का होता है। सिस्टोलिक और डायस्टोलिक। जब दिल धड़कता है। और खून को पंप करता है। उस समय धमनियों के ऊपर प्रेशर होता है। उसे सिस्टोलिक प्रेशर कहते हैं। जब धमनिया एक बार पंप करने के बाद और दूसरी बार पंप करने से पहले जब हमारा दिल आराम की अवस्था में होता है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

उस समय भी धमनियों के ऊपर प्रेशर होता है। जिसे डायस्टोलिक प्रेशर कहते हैं। उदाहरण के तौर पे मान लिया जाए की जब भी किसी सामान्य इंसान का BP 120/80 होता है। तो इसमें जो 120 है। वह सिस्टोलिक प्रेशर कहा जाता है। और जो 80 है। उसे  डायस्टोलिक प्रेशर कहते हैं। अब हम नॉर्मल ब्लड प्रेशर के बारे में जान लेते हैं। अगर आपका रक्तचाप  70 से लेकर 90 के बीच में है। तो इसे Low Blood Pressure माना जाता है। यानी कि आपका ब्लड प्रेशर नार्मल से कम है। और अगर आपका ब्लड प्रेशर इस आकड़े से ज्यादा है। तो इसे High Blood Pressure मन जाता है।

High blood pressure और Low blood pressure मनुष्य के शरीर में साइलेंट किलर की तरह होती है। यानी की शुरुआत में इसका पता भी नहीं चलता। और यह धीरे धीरे अंदर ही अंदर बढ़ती जाती है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादा काम कम आराम प्रदूषण और खानपान में गड़बड़ी के कारण दिमागी तनाव बढ़ता चला जा रहा है। और साथ ही ज्यादा चिंता करने से और टेंशन लेने की वजह से हमारे शरीर की नसों में खून का बहाव तेज होने लगता है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

जो High blood pressure और Low blood pressure की समस्या को जन्म देता है। जब हमारा शरीर के अंदर खून जरूरत से ज्यादा तेजी से कम करने लगता है। तो यह दिल के ऊपर दबाव पैदा करने लगता है। और इसी दबाव को ब्लड प्रेशर कहा जाता है। ब्लड प्रेशर का सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव हमारे दिल दिमाग और किडनी पर पड़ता है। और कई स्थितियों में यह हमारे शरीर की नसों में ब्लॉकेज भी पैदा कर सकता है। जिसकी वजह से अचानक दिल का दौरा होने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाती है

आजकल के समय में बहुत लोगो को रक्तचाप की अच्छी जनकारी नहीं होती है। आज हम High blood pressure और Low blood pressure के बारे में सभी बिषयो पे विस्तार से बात करेंगे। सबसे पहले हमारे लिए ये जानना जरुरी है। की High blood pressure Low blood pressure जैसे समस्या क्यों उत्पन्न होती हैं। और High blood pressure और Low blood pressure को कैसे जड़ से खत्म किया जा सकता है। आज पूरी दुनिया में उच्च रक्तचाप यानी कि हाइपरटेंशन एक बहुत ही गंभीर समस्या बनी हुई है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

आम भाषा में हाई ब्लड प्रेशर को BP भी कहा जाता है। यह एक जानलेवा बीमारी है। हाई ब्लड प्रेशर एक शांत ज्वालामुखी की तरह है। जिसमें बाहर से कोई लक्षण या खतरा नहीं दिखाई देता। इसका ये मतलब बबल्कुल नहीं होता की ये खतरनाक नहीं होता है। जैसा की आप सभी जानते है। जब ज्वालामुखी फटता है। तो किस तरह से विनाश मचता है। इसे तरह  High blood pressure के रोग के कारन हमारे शरीर पर लकवा और हार्ट अटैक जैसे गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

अभी से कुछ समय पहले तक यह माना जाता था। कि यह समस्या उम्रदराज लोगों की समस्या है। लेकिन ये सोच अभी के समय में गलत साबित होती नजर आ रही है। आजकल के समय में बच्चे बूढ़े जवान सभी रक्तचाप जैसे गंभीर समस्या से जूझ रहे है। बदलते माहौल में हाइपरटेंशन की समस्या बच्चों और युवाओं में भी फैलती जा रही हैं। जब भी हमें ऐसी समस्या उत्पन होती हैं। तो हम  हाई ब्लड प्रेशर लो ब्लड प्रेशर जल्दी से  ठीक करने के लिए डॉक्टर को दिखाते हैं। और ढेर सारी दवाओं का सेवन करते हैं। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

लेकिन दवाओं का सेवन करने के बाद भी यह समस्या हमें वापस होती हैं। यानी कि जब तक हम दवाओं का सेवन करते रहेंगे। तब तक हम ठीक रहेंगे। और जैसे ही दवाओं का सेवन बंद करते हैं। यह समस्या फिर से होने लगती है।क्या आप सभी को पता है ऐसा क्यों होता है। क्योंकि जब हमें कोई भी रोग होता है। कोई भी बीमारी होती है। तो हम सीधा डॉक्टर के पास जाते हैं। हम यह नहीं सोचते कि आखिर यह रोग यह बीमारियां होने का क्या कारन है किस बजह से रक्तचाप जैसे समस्या उत्पन हुआ है। 

मै आपसभी को यह बताना चाहता हु की कोई भी रोग कोई भी बीमारी बिना वजह के हमारे शरीर में नहीं होती हैं। हमारे खानपान में कहीं ना कहीं कोई न कोई गड़बड़ जरूर होती है।  जिसकी वजह से ही हमें इन रोगों और बीमारियों से जूझना पड़ता है। लेकिन बिगड़ी जीवनशैली खराब आदतों के कारण लोग यह भूल जाते हैं। कि उनके शरीर में उत्पन हो रहे रोग का क्या कारन है। यदि आप रोग के कारन को जान लेते है तो आप अपने रोग को दूर करने में आसानी से सफल हो सकते है। इसलिए आज हम आपको हाई ब्लड प्रेशर और लो ब्लड प्रेशर होने के कारण को विस्तार में बता रहा हु। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

How to Control Diabetes Naturally हिंदी में जानकारी

सबसे पहले हम जानते है की हाई ब्लड प्रेशर में क्या होता है। जब हमारा दिल खून को सारे शरीर में सप्लाई करता है। सारी नसों में सप्लाई करता है। तो नसों में खून गाढ़ा होने की वजह से दिल पर दबाव बढ़ता जाता है। जिससे दिल खून भेजने की गति को बढ़ा देता है। इसे हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं। अब सबसे जरूरी बात कि आखिर यह हमारी दिल की नलियों में खून गाढ़ा किस कारण होता है। जिसकी वजह से हमें अनेक रोगों से जूझना पड़ता है। दवाइयां खानी पड़ती है। जब हमारे पेट में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है।

नीम के पत्ती के असाधारण औषधीय गुण हिंदी में जानकारी

तो हमें पेट से सम्बंधित छोटी मोटी बीमारियां होने लगती है। जैसे पेट में गैस बनना। पेट दर्द होना। पेट में छाले । रात में पेट का फूल जाना। रात में सोने के समय नींद ना आना। सांस लेने में दिक्कत। यह सब हमारे शरीर में एसिड अधिक मात्रा में बनने की वजह से होते हैं। और यही एसिड बढ़ते-बढ़ते खून में पहुंच जाता है। तो हमें ब्लड एसिडिटी होती हैं। जिसे रक्त अम्लता भी कहते हैं। और शरीर में रक्त अम्लता बढ़ने पर ही हाई बीपी की समस्या हार्ट अटैक होना शुगर होना ब्लड कैंसर जैसी बड़ी-बड़ी बीमारियां होने लगती है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

How to Stop Hair Fall Naturally हिंदी में जानकारी

अब आप सभी के मन में यह प्रश्न आवस्य उठ रहा होगा की हमारे शरीर के अंदर एसिड क्यों बनता है। तो यह जानना बहुत जरुरी है की हमारे खान पान में हुई गड़बड़ और गलत आदतों के कारण शरीर के अंदर एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। शरीर के अंदर बढ़ रहे एसिड की मात्रा को काम करने के लिए आपको अपने भोजन का खास ध्यान रखना अतिआवशयक है। जब भी आप भोजन करें। तो भोजन में ध्यान रखे कि कहीं आप ऐसी चीजें तो नहीं खा रहे हैं। जिसमें एसिड की मात्रा ज्यादा हो।

अपने शरीर के अंदर हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे दूर करे हिंदी में जानकारी

जैसे कि अगर आप आयोडीन युक्त नमक का प्रयोग कर रहे हैं। तो इसे तुरंत बंद कर दीजिए। क्योंकि यह शरीर में एसिड बहुत अधिक मात्रा में बढ़ाता है। जिससे हाई बीपी की समस्या हार्ट अटैक होने की संभावना बढ़ जाती हैं। और ऐसे ही चाय कॉफी सफेद शक्कर अचार धूम्रपान करना शराब पीना ये सभी इस रोग के लिए बहुत खतरनाक है। अभी के समय में मिल रहा बाजारू गुड़ का इस्तेमाल अपने भोजन में बिलकुल ना करे। सबसे ज्यादा एसिड रिफाइंड ऑयल  के सेवन से बनता है। आप अपने भोजन में मूंगफली का तेल या सरसों का तेल खा सकते हैं। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

बढ़ते हुए वजन और चर्बी को कैसे कम करे हिंदी में जानकारी

खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने से भी पेट में एसिड बनता है। और साथ ही अन्य बीमारियां भी होने लगती हैं। तो आप इस बात का भी ध्यान रखें। भोजन के साथ साथ और भोजन के तुरंत बाद पानी का सेवन बिलकुल भी न करे।रोजमर्रा के भोजन में हम बहुत से ऐसे चीजों का सेवन करते है। जिनमें एसिड की मात्रा पाई जाती है। जब भी आपका ब्लड प्रेशर हाई होने लगे। तो आप ऐसी चीजें खाइए जिनमें क्षार तत्व ज्यादा हो। जब हम भोजन करते हैं। तो उसमें दो प्रकार के तत्व पाए जाते हैं। एक तो क्षार तत्व और दूसरा अम्ल तत्वों। हमारे शरीर में दोनों का बैलेंस होना बहुत जरूरी है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

Thyroid थायराइड क्या है थायराइड से कैसे बचे हिंदी में जानकारी

इन दोनों के सही बैलेंस से ही हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। क्योकि जब भी हम अम्ल और छार को एक दूसरे में मिलाते हैं। तो यह हमारे सरीर को संतुलित करता है।उदाहरण के तौर पे आप अम्ल और छार को ऐसे समझे । कि जितनी भी फलों और सब्जियों में रस है। वह सब अम्लीय चीजें हैं। और जिन सभी फलों और सब्जियों में रस नहीं है। वह सब क्षारीय हैं। जैसे कि सेब केला अमरुद पालक बैंगन गाजर मेथी लौकी जिनमें रस नहीं है। वह सब क्षारीय है। आलू एक ऐसी सब्जी है। जिसके बारे में कहा जाता है। कि आलू ना तो अम्लीय और क्षारीय यानी कि बीच का है। और ऐसे ही नारियल भी एक ऐसा फल है। जिसमे रस होते हुए भी वह क्षारीय हैं।

डेंगू क्या है डेंगू के बुखार को कैसे रोके हिंदी में जानकारी

आप इस का भी सेवन कर सकते हैं। सायद आप सभी ने अर्जुन की छाल के बारे में आवस्य सुना होगा। अर्जुन की छाल हाई बीपी की समस्या को जड़ से खत्म करने में बहुत मददगार साबित होता है। अर्जुन की छाल का उपयोग करने के लिए आधा चम्मच अर्जुन छाल पाउडर आधा गिलास पानी लेना है। और आप चाहे तो उसमें थोड़ा गुड़ मिला सकते हैं। अब इनको खूब गर्म करना है। और फिर चाय की तरह पीना है। यदि आप पानी के जगह दूध का उपयोग कर सकते है तो यह और जयादा फायदेमंद साबित होता है। आपको इस औषिधि का उपयोग सुबह के समय फ्रेश होने के बाद करना है। आपको एक बात का यहाँ ध्यान रखना बहुत जरुरी है की इस औषधि के उपयोग करने के बाद आपको आधे घंटे तक कुछ नहीं खाना है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

अपने चेहरे से दाग धब्बे पिम्पल्स मुहासे को हटाने के उपाय

इस औषिधि के प्रयोग से आपका दिल मजबूत होगा। आपके दिल की सारी ब्लॉकेज दूर करेगा। पेशाब खुलकर नहीं आता है। तो वह भी सही करेगा। और कोलेस्ट्रॉल को ठीक करेगा अर्थरिटिस को ठीक करेगा। मोटापा कम करेगा।हाई बीपी के लिए बेलपत्र के पत्ते का उपयोग भी बहुत कारगर साबित होता है।आपकी बढ़ी हुई BP को जल्दी से ठीक करने में बहुत मदद करता है। इसके लिए आप दस बेलपत्र लेकर उसे पत्थर में पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर ले। पेस्ट को एक गिलास पानी में डालकर गर्म कर ले। पानी को तब तक गर्म करे जब तक की आपका पानी आधा गिलास न हो जाए।  

किडनी के विकार के लक्षण और सुरक्षा के प्राकृतिक उपाय

इसके बाद पानी को ठंडा कर के इसका सेवन करे। इस उपचार से आप अपने उच्च रक्तचाप को आसानी से ठीक कर पाएंगे। सुबह खाली पेट देसी गाय का मूत्र पिने से भी इस रोग से छुटकारा पा सकते है। आधा कप गाय के मूत्र के सेवन से बहुत ही जल्दी आपकी हाई बीपी को कम किया जा सकता है।गोमूत्र बहुत अद्भुत है। यह हाई बीपी को भी ठीक करता है। और साथ ही साथ लो बीपी को भी ठीक कर देता है।

यह  दोनों में काम आता है। गोमूत्र डायबिटीज को भी ठीक कर देता है।  आर्थराइटिस को भी ठीक कर देता है।अस्थमा भी ठीक होता है।  ट्यूबरकुलोसिस यारी TB  भी ठीक हो जाती है। गोमूत्र पीते समय आपको दो सावधानियां ध्यान में रखनी है। पहली ये है की गाय शुद्ध रूप से देशी हो। और दूसरी कि वह गर्भावस्था में ना हो। इन दोनों बातों का ध्यान रखकर ही गोमूत्र का प्रयोग करे। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

तो अब हम बात करते है लो ब्लड प्रेशर के बारे में। जब भी शरीर में खून की गति सामान्य से कम हो जाती है। तो उसे लो ब्लड प्रेशर कहते हैं। नॉर्मल ब्लड प्रेशर 120/80 होता है। थोड़ा बहुत ऊपर नीचे होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। लेकिन यदि ब्लड प्रेशर 90 से कम हो जाए। तो उसे लो ब्लड प्रेशर कहते हैं।  अक्सर लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते जबकि लो ब्लड प्रेशर में शरीर में ब्लड का दबाव कम होने से आवश्यक अंगों तक पूरा ब्लड नहीं पहुंच पाता है।  जिससे उनके कार्यों में बाधा पहुंचती हैं। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

TB अर्थात क्षय रोग के लक्षण अथवा बचाव हिंदी में जानकारी

ऐसे में दिल और दिमाग आंशिक रूप से या कभी कभी पूरी तरह से काम करना बंद कर देता हैं। इसमें आप ऐसी चीजों का सेवन करें जो अम्लीय हो। जैसा की मैंने आपको ऊपर बताया है। वो सभी फल जिसमे रस हैं। वह सभी अम्लीय हैं।उनका इस्तेमाल कर लो बीपी को सामान्य किया जा सकता है। आपको एक गिलास पानी में 20 से 25 ग्राम गुड़ थोड़ा सा नींबू का रस और थोड़ा सा नमक मिलाकर इस को पीना है।

इस प्रयोग को आपको प्रतिदिन तीन बार करना है। ऐसा करने से आपकी बहुत ही जल्दी आराम प्राप्त होगा। यदि आप प्रतिदिन अनार का रस नमक डालकर सेवन करते है तो इससे  बहुत जल्दी लो बीपी ठीक हो जाती हैं। गन्ने का रस  नमक डालकर सेवन करने से भी लो बीपी को ठीक हो जाता है।  संतरे का रस में नमक डालकर पिने से भी लो बीपी को ठीक हो जाता है। 

कैंसर के शुरुआती लक्षण और कैंसर के विकार से बचने के उपाय हिंदी में जानकरी

BP के लिए मक्खन मिश्री मिलाकर खाने  जल्द आराम प्राप्त होता है। सुबह के समय आप मक्खन और मिश्री का सेवन करते है तो आपका रोग बहुत जल्द सही होने लगता है। इसमें आपको एक बात का ध्यान रखना है। कि मिश्री आपको रेशे वाली अर्थात धागे वाले ही इस्तेमाल करनी है। क्योंकि यही असली मिश्री है। आजकल मार्केट में छोटे छोटे डेन वाले मिश्री  केमिकल से तैयार की जाती है।

बाजार में मिल रही मिश्री केमिकल युक्त होती है। दूध में घी मिलाकर पिने से भी इस रोग में बहुत आराम मिलता है एक गिलास देसी गाय का दूध और एक चम्मच देसी गाय का घी मिलाकर रात को पीने से Low blood pressure बहुत जल्दी ठीक होती हैं नमक पानी से सेवन से भी Low blood pressure की आसानी से कम किया जा सकता है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

Arthritis गठिया रोग के लक्षण और इसके बचाव से उपचार की जानकारियां

रक्तचाप के रोग में तरबूज के बीज का सेवन भी काफी उपयोगी साबित होता है। तरबूज के बीज के अंदर एक ऐसा कंपाउंड पाया जाता है। जो कि हमारी रक्त कोशिकाओं को फैलाने का काम करता है। और साथ ही साथ किडनी की कार्य क्षमता बढ़ाने के लिए भी बहुत अधिक फायदेमंद है। रोजाना तरबूज के बीज के सेवन करने से बढे हुए ब्लड प्रेशर को कम किया जा सकता है। इस औषधि को तैयार करने के लिए सबसे पहले तरबूज के बीजों को अच्छी तरह सुखा लें। बाजार में बिना छिलके वाले तरबूज के बीज आसानी से मिल जाते हैं।

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

आप उनका भी इस्तेमाल कर सकते हैं। सूखे हुए तरबूज के बीजों को बराबर मात्रा में लेकर मिक्सर मशीन का पाउडर बना लें। और पाउडर को प्लास्टिक के जार में भरकर रख ले। इसके सेवन आपको सुबह पानी के साथ नाश्ता करने से आधे घंटे पहले करना है। इसके रोजाना सेवन करने से शरीर के खून से जुड़े सभी तरह के रोगों को ठीक किया जा सकता है। इसके अंदर विटामिन B6  और पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है। 

इसे कारन से इसका सीधा असर हमारे रक्तचाप पर होता है। तरबूज के बीज के साथ साथ तरबूज भी शरीर के बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए काफी उपयोगी होता है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

Snake Poison First Treatment सांप के विष का उपचार Limant Post

सबसे हैरान कर देने वाली बात यह है की तरबूज खाने के लगभग 15 मिनट बाद ही इसका असर हमारे रक्तचाप पर होना शुरू हो जाता है। यह हमारे शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के मात्रा को बढ़ाता है। जिससे कि खून जाने वाली नसों में फैलाव बढ़ता है। और दबाव कम होता है। इसलिए हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होने पर गर्मियों में तरबूज भरपूर मात्रा में खाना चाहिए। तरबूज एक ऐसा फल है जो आसानी से कही भी प्राप्त किया जा सकता है। ये फल जायदा मंहगा भी नहीं होता है। तरबूज के फल को हम आसानी से प्राप्त कर सकते है।

Asthma अर्थात दमा के विकार के उपचार की हिंदी में जानकारी

अब मैं आपको अगले औषधि के बारे में बतात हु। इस औषधि को बनाने के लिए हमें जरूरत होगी। आंवले का रस शहद और दालचीनी की। आवला एक ऐसा फल है। जो कि हमारे शरीर में अनेक बीमारियों को ठीक करने के लिए उपयोग में लाया जाता है। इसके अंदर विटामिन सी और विटामिन A भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी में सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। आंवले का जूस आप घर पर भी बना सकते हैं। अन्यथा आप बाजार से बना हुआ भी इस्तेमाल कर सकते है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

इस औषधि को तैयार करने के लिए आधा गिलास पानी में आंवले का जूस आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर एक चम्मच शहद मिलाकर सारी चीजों को आपस में अच्छी तरह मिक्स कर लें। इन सभी को एक साथ पीस लेने के बाद आपकी औषधि तैयार हो जाएगा। आप इसका सेवन प्रतिदिन करें। दालचीनी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करती है। यह खून के दबाब को कम करने में बहुत जयादा मदद करता है। आवला के सेवन करने से कई अन्य तरह के रोग से भी छुटकारा प्राप्त किया जा सकता है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

How to increase height लम्बाई कैसे बढ़ाए हिंदी में जानकारी

अब हम अगले औषधि के बारे में बात करते है। आप सभी ने गुड़हल के फूल का नाम आवस्य सुना होगा। तो आइये मैं बताता हु की कैसे आप इस औषधि का निर्माण कर सकते है। गुड़हल के फूल और इलायची की सहायता से आप इस दवाई को बना सकते है। गुड़हल के फूलों का इस्तेमाल शरीर के बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को ठीक करने के लिए आज दुनिया भर में किया जा रहा है।डॉक्टरों के अनुसार लगातार 15 दिनों तक गुड़हल की चाय का सेवन किया जाए।

तो इससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या पूरी तरह ठीक हो जाती है। इसको तैयार करने के लिए हमें गुड़हल के फूलों की जरूरत होगी। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप चाहे तो गुडहल के फूलों को छांव में सुखाकर इस का पाउडर बनाकर भी रख सकते हैं। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

फाइलेरिया हाथीपाँव क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार कैसे करे

गुड़हल के फूल के पाउडर को एक गिलास पानी में एक चुटकी के साथ तब तक उबालें। जब तक कि पानी कम ना हो जाए। इसको बाद इसे ठंडा होने के लिए छोड़ दे। रोजाना दिन में दो बार इस औषधि को खाली पेट सेवन करें। स्वाद को जयादा अच्छा बनाने के लिए आप इसमें सहद का भी इस्तेमालकर सकते है।  इसमें इलायची का इस्तेमाल भी किया जाता है ताकि इसका स्वाद और जयादा अच्छा किया जा सके। यह औषधि बढे हुए ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए बहुत अधिक फायदेमंद होती है। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

आंवला के गुण और आंवला के उपयोग से रोगों का उपचार हिंदी में जानकारी

लौकी के सेवन से भी रक्तचाप की रोग को दूर किया जा सकता है। लौकी का जूस बनाते समय इसमें धनिया पुदीना तुलसी के पत्ते एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर बनाया जा सकता है। इस तरह से इसका असर  दुगना हो जाता है। इसका एक ही बार में काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। सारी चीजों से मिलकर बनाई गई ये जूस उच्य ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ साथ दिमाग को शांत करने और टेंशन को दूर करने का भी काम करता है।

इस जूस में नींबू के रस को मिला देने से गर्मियों के दिनों में जूस का सेवन करने से हमारे शरीर में ठंडक बनी रहती है। पेट साफ रहता है। और साथ में कैस्ट्रॉल की बढ़ी हुई चर्बी कम करता है। इसके लगातार इस्तेमाल से आप अपने शरीर में धीरे-धीरे हल्कापन महसूस करने लगेंगे।

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार
High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

Piles अर्थात बवासीर के शुरुवाती संकेत लक्षण और उपचार

यदि आप हमारे द्वारा प्रदान की गई High blood pressure और Low blood pressure की जानकारी से संतुष्ट हैं। तो इसे शेयर अवश्य कर दें। ताकि उन सभी जरूरतमंद लोगों को यह जानकारी मिल जाए कि High blood pressure और Low blood pressure जैसे खतरनाक रोग को घरेलु नुस्खे से कंट्रोल किया जा सकता है। अभी के समय में बहुत सारे ऐसे मरीज है। जो High blood pressure और Low blood pressure के रोग से परेशान होके इधर उधर भटकते रहते हैं। और उन्हें सही उपचार सही समय पर नहीं मिल पाता है।

आपके शेयर करने से उन सभी को महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएगी। जिससे उन्हें अपने High blood pressure और Low blood pressure के उपचार के लिए घरेलू नुस्खे का इस्तेमाल आसानी से कर सकते हैं। यदि आपको इस जानकारी के संबंध में कुछ पूछना हो या आप कमेंट के जरिए कुछ बताना चाहते हैं। तो इस पोस्ट के नीचे दिए गए विकल्प में आप कमेंट करके हमसे किसी भी तरह के जानकारी का आदान प्रदान कर सकते हैं। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

यदि आप हमें मैसेज करना चाहते हैं। तो आपको इस वेबसाइट के होमपेज पे जाना है। होमपेज पे जाने के बाद आपको फेसबुक के जरिये मैसेज करने के लिए आपको विकल्प आसानी से मिल जाएगा। हम आपके द्वारा किए गए प्रश्न और किए गए कमेंट का जल्द से जल्द जवाब देने की कोशिश करेंगे।

यदि आप High blood pressure और Low blood pressure के बारे में कोई अन्य जानकारी रखते हैं। और हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं। आप चाहते हैं कि आप की जानकारी हमारे वेबसाइट पर दिखाई जाए। तो आप हमें कमेंट अपना ईमेल के जरिए बता सकते हैं। आपके द्वारा दी गई जानकारी यदि सही होगी। तो हम उसे आपके नाम के साथ वेबसाइट पर अपलोड कर देंगे। (High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार)

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

18 Comments

  1. Pingback: दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय | Limant
  2. Pingback: माइग्रेन के समस्याओ के लक्षण और इसके उपचार | Limant
  3. Pingback: अपने शरीर के अंदर हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे दूर करे हिंदी में जानकारी
  4. Pingback: कब्ज गैस एसिडिटी की समस्या के कारण और इसके उपचार | Limant
  5. Pingback: गठिया रोग के शुरुआती लक्षण और इसके उपचार के उपाय | Limant
  6. Pingback: गठिया रोग के शुरुआती लक्षण और इसके उपचार के उपाय | Limant

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us