फाइलेरिया हाथीपाँव क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार कैसे करे

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

फाइलेरिया और हाथी पांव दोनों एक ही विकार का नाम है। इस विकार को अलग-अलग जगह पर अलग-अलग नाम के साथ जाना जाता है। अंग्रेजी में लोग इसे फाइलेरिया और हिंदी में हाथी पांव के नाम से जानते हैं। सबसे पहले मैं आपको बताता हूं।  फाइलेरिया और हाथीपांव जैसे विकार में किस तरह के लक्षण दिखने लगते हैं। फाइलेरिया के लक्षण को जानने से पहले आप सभी को यह जानना आवश्यक है कि फाइलेरिया का लक्षण शुरुआती दौर में पता लगाना बहुत मुश्किल होता है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया से पीड़ित मरीजों को शुरुआती दौर में फरिया के बारे में ज्ञात होना बड़ी कठिन साबित होती है। फाइलेरिया के शुरुआती दौर में मरीजों के शरीर के चमड़े या चमड़े के नीचे की परत मोटी होने लगती है। अक्सर देखा जाता है। कि फाइलेरिया से पीड़ित मरीजों के शरीर के किसी अंग की चमड़ी बहुत ज्यादा मोटी हो जाती है। साधारण भाषा में कहा जाए तो यदि कोई मरीज फाइलेरिया से पीड़ित है। तो उसके शरीर के किसी अंग को आप बहुत ज्यादा मोटा देख सकते हैं। इस विकार के दौरान मरीज की चमड़ी सामान्य अवस्था से असामान्य अवस्था में चली जाती है। पुरुषों मैं फाइलेरिया का विकार अधिकांश हाइड्रोसील में देखा जाता है।

अपने चेहरे से दाग धब्बे पिम्पल्स मुहासे को हटाने के उपाय

पुरुषों को फाइलेरिया के विकार के लक्षण में अक्सर उनके हाइड्रोसील के आकार में परिवर्तन आ जाता है। पहले की अपेक्षा उनके हाइड्रोसील का आकार बड़ा होने लगता है। और धीरे-धीरे इस में सूजन आने लगती है। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में भी यह रोग उनके गुप्तांग को ही प्रभावित करती है। महिलाओं के स्तन में भी फाइलेरिया का प्रभाव आसानी से देखा जा सकता है। यदि किसी महिला को फाइलेरिया का रोग है। तो उसके स्तनों में फाइलेरिया के लक्षण ज्यादा प्रभाव डालते हैं। फाइलेरिया अथवा हाथीपांव के विकार के लक्षण में शरीर के चमड़े पर लाल रंग के चकत्ते बनने शुरू हो जाते हैं। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

मलेरिया से पीड़ित रोगी को उनके शरीर के चमड़े के रंग बदलने का प्रभाव आसानी से नजर आने लगता है। कई बार फाइलेरिया के लक्षण में मरीजों के शरीर के अंदर पेट में दर्द होना भी शुरू हो जाता है। ऐसे मैं आप सभी को बताना चाहता हूं कि फाइलेरिया रोग के बहुत सारे प्रकार हैं। मलेरिया के अलग-अलग प्रकार के रोग में अलग-अलग तरह के लक्षण देखा जा सकता है। फाइलेरिया के रोगी को पेट दर्द होना आम बात हो जाता है इस रोग में रोगी के पेट के अंदर हमेशा दर्द बना रहता है। कभी-कभी यह दर्द असहनीय दर्द के रूप में भी बदल जाता है।

किडनी के विकार के लक्षण और सुरक्षा के प्राकृतिक उपाय

फाइलेरिया में संबंधित अब मैं आपको कुछ ऐसी जानकारियां प्रदान करता हूं। जिसकी सहायता से आप फाइलेरिया को आसानी से अपने जीवन में बढ़ने से रोक सकते हैं। सबसे पहले मैं आपको बताना चाहता हूं कि फाइलेरिया संक्रमित मच्छर के काटने से फैलता है। अतः आप कोशिश करें कि अपने घर में मच्छरों को जमा ना होने दे। फाइलेरिया जैसे रोग को बढ़ावा देने वाले मच्छर मरीजों को या किसी भी तरह के इंसान को सुबह या शाम के समय में ही काटते हैं। अतः आप कोशिश करें कि रात को ठंडी जगह पर सोए क्योंकि फाइलेरिया फैलाने वाले मच्छर ठंडी जगह पर अपना आवास नहीं बना पाते हैं। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

रात को सोने के लिए मच्छरदानी का इस्तेमाल करें। मच्छरदानी के इस्तेमाल से आप मच्छरों के काटने से आसानी से बच सकते हैं। मलेरिया जैसी बीमारी को फैलाने वाले मच्छर के काटने से बचने के लिए आप अपने शरीर पर मच्छर भगाने वाले क्रीम का इस्तेमाल करें। आजकल के समय में बाजार में बहुत सारे ऐसे क्रीम उपलब्ध हैं जो आपके शरीर के ऊपर मच्छर को काटने से रोकते हैं। फाइलेरिया एक ऐसी खतरनाक बीमारी है जो शरीर को धीरे-धीरे सुन्न कर देता है। मलेरिया से पीड़ित मरीज धीरे-धीरे विकलांगता की तरफ बढ़ते जाते हैं और आगे चलकर इनका पूरा शरीर सुन्न हो जाता है जिसके कारण इनके शरीर पर पैर के चोट घाव का आभास नहीं होता है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

TB अर्थात क्षय रोग के लक्षण अथवा बचाव हिंदी में जानकारी

जैसा कि मैंने आप सभी को पहले भी बताया है कि फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी मच्छर के काटने से होता है। अतः आप संक्रमित मच्छर को अपने घर के आस-पास बढ़ने से रोके। आप सभी को यह बात जानकर बड़ा आश्चर्य होगा की की फाइलेरिया जिस मच्छर के काटने से फैलता है। वह मच्छर हमारे शरीर के नसों में 4 से 6 साल तक जीवित रह सकते हैं। जहां तक बात रही मादा मच्छरों की तो यह हमारे शरीर के अंदर धीरे-धीरे प्रजनन करने की क्रिया से शरीर में और भी बहुत सारे ऐसे और कीड़े पैदा कर देते हैं जिससे हमारा शरीर धीरे-धीरे और फाइलेरियाका शिकार होता जाता है और हम फाइलेरिया के बीमारी का शिकार होते जाते हैं।

फाइलेरिया के बढ़ावा देने वाले मच्छरों के काटने से ना केवल हमारे शरीर में फाइलेरिया की ही रोग उत्पन्न होते हैं बल्कि हमारे शरीर के अंदर रोग निरोधक क्षमता में भी कमी आने लगती है। इस मच्छर के काटने से हमारे शरीर के अंदर रोग निरोधक क्षमता इतनी कम हो जाती है कि मरीज फाइलेरिया के बीमारी के चपेट में आसानी से आ जाता हैं। यदि हमारे शरीर के अंदर रोग निरोधक क्षमता कम होती है तो हम बहुत जल्दी-जल्दी बीमार पड़ते रहते हैं हमारी पाचन शक्ति कम हो जाती है छोटे से छोटे बीमारियों में भी हमें बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।(फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

कैंसर के शुरुआती लक्षण और कैंसर के विकार से बचने के उपाय हिंदी में जानकरी

अतः आप फाइलेरिया के रोग से बचने के लिए अपने घर में घर के आस-पास मच्छरों को भगाने वाले दवाईयों का छिड़काव अवश्य करवाएं। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि फाइलेरिया डेंगू मलेरिया सभी रोगों का प्रारंभ मच्छरों से ही होता है। अपने घर के आस-पास मच्छरों को भगाने वाले दवाईयों का छिड़काव करना अति आवश्यक है। यदि आपके घर के आसपास मच्छरों का जमावड़ा ज्यादा लगता है तो आप कोशिश करें कि शाम के समय और सुबह के समय पूरे तन ढकने वाले कपड़े का पहनावा करें। इसके अलावा  घर के आगे पीछे जहां आप विश्राम करते हैं जहां आप रात में सोते हैं इन सभी जगह पर मच्छर भगाने वाले दवाइयों का इस्तेमाल अवश्य करें (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

यह आपके जीवन में फाइलेरिया से मुक्ति का साधन बन सकता है।। जैसा की मैंने आप सभी को पहले भी बताया जी आपको किसी फाइलेरिया के मच्छर ने काट रखा है तो शुरुआती दौर में आपको यह पता लगाना बहुत कठिन साबित होता है कि आपके शरीर के अंदर फाइलेरिया के लक्षण आ रहे हैं अथवा नहीं आ रहे हैं। अच्छा आप कोशिश करें कि प्रत्येक साल अपने रक्त की जांच अवश्य करवाएं। रक्त जांच करवाने से आपके जीवन में बहुत तरह की सुविधाएं उपलब्ध हो जाती है बहुत तरह की जानकारी आप जान पाते हैं। आपके शरीर के अंदर किसी भी तरह की कोई परेशानी उत्पन्न हो रही है तो आप को पहले से ही ज्ञात हो जाता है। अत आप कोशिश करें कि साल में एक बार अपने रक्त की जांच अवश्य करवाएं।

Arthritis गठिया रोग के लक्षण और इसके बचाव से उपचार की जानकारियां

तो आइए अब मैं आपको बताता हूं कि कि आप कैसे फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी को घरेलू उपचार के माध्यम से जड़ से समाप्त कर सकते हैं।

सर्वप्रथम मैं आपको बताना चाहूंगा कि लौंग के सेवन करने से आपके फाइलेरिया जैसे बीमारी में बहुत आराम मिलेगा। लौंग में उपस्थित योगिक गुण आपके शरीर के अंदर पनप रहे फाइलेरिया के परजीवी को पनपते ही जड़ से खत्म करने में सक्षम होता है। लौंग के सेवन करने से आप अपने शरीर के अंदर फैल रहे फाइलेरिया के परजीवी को जड़ से खत्म करने में सक्षम हो सकते हैं। सबसे पहले मैं आपको बताना चाहता हूं कि आप लोग का सेवन किस प्रकार मलेरिया की बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए करेंगे। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

Snake Poison First Treatment सांप के विष का उपचार Limant Post

लौंग का सेवन आप चाय के रुप में भी कर सकते हैं यदि आप लौंग से बने चाय का सेवन करते हैं तो यह आपके शरीर के अंदर मलेरिया के परजीवी एंजाइम को खत्म करने में कारगर साबित होता है। यदि आप चाय का सेवन नहीं करते हैं आप लोग को चबा के भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आप दिन में एक से दो लौंग चबाकर उससे बने लाड़ अंदर ले ले। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि लॉन्ग बहुत गर्म होता है इसलिए लौंग का अत्यधिक सेवन भी ना करें।

दिन में आप दो से तीन लौंग का सेवन पूरे दिन में कर सकते हैं इससे आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी उत्पन्न नहीं होगी। एक चीज में आप सभी को और बता देना चाहता हूं कि यदि आपको लग रहा है कि आपके शरीर के अंदर फाइलेरिया के लक्षण आ रहे हैं तो आप अपने नजदीकी डॉक्टर से अवश्य संपर्क करें। डॉक्टरी सलाह लेना अति आवश्यक है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

Asthma अर्थात दमा के विकार के उपचार की हिंदी में जानकारी

अब मैं आपको दूसरे उपाय के बारे में बताने जा रहा हूं जिसके उपाय से भी अपने शरीर के अंदर फल रहे फाइलेरिया के लक्षण को आसानी से कम कर सकते हैं। आप सभी ने अखरोट का नाम अवश्य सुना होगा। मैं आप सभी को आज काले अखरोट से फाइलेरिया के कीटाणु को जड़ से खत्म करने के उपाय के बारे में विस्तार से बताता हूं। आप काले अखरोट के तेल को एक गिलास गर्म पानी में 5 से 6 बूंद डालकर 1 दिन में तीन से चार बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

काले अखरोट के तेल के इस्तेमाल से पहले में काले अखरोट के तेल के गुण को बता देता हूं जिससे आप सभी आश्वस्त हो जाएंगे कि आप को इस नुस्खे के उपयोग से किसी भी तरह की कोई परेशानी उत्पन्न नहीं होगी। अखरोट में ऐसे गुण मौजूद है जो आपके शरीर के अंदर उपस्थित हमें किसी भी प्रकार के कीड़े को जड़ से खत्म करने में मदद करता है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

How to increase height लम्बाई कैसे बढ़ाए हिंदी में जानकारी

अखरोट के मस्तिष्क को भी तेज करते हैं अखरोट के सेवन से आपको किसी भी तरह के कोई साइड इफेक्ट का सामना नहीं करना पड़ेगा अतः आप निश्चिंत होकर अखरोट का इस्तेमाल कर सकते हैं।। जैसा की मैंने आप सभी को पहले भी बताया है कि आप अखरोट के तेल के चार से पांच बूंद को एक गिलास गर्म पानी में डालकर 1 दिन में दो से तीन बार सेवन कर सकते हैं।(फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

अब मैं आपके भोजन की बात करता हूं। सबसे पहले मैं आपको यह बता देना चाहता हूं कि फाइलेरिया के खतरनाक बीमारी में विटामिन A का अधिक से अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। विटामिन A के अधिक से अधिक मात्रा में सेवन करने से मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी में मरीजों को काफी मदद मिलती है। आप कोशिश करें कि ऐसे साग सब्जी फल फूल इत्यादि का सेवन करें जिसमें विटामिन A भरपूर मात्रा में मौजूद होती है उदाहरण के लिए मैं आपको कुछ ऐसे ही फल फूल साल सब्जी के बारे में बता देता हूं

बढ़ते हुए वजन और चर्बी को कैसे कम करे हिंदी में जानकारी

जिसके सेवन से आपके शरीर के अंदर भरपूर मात्रा में विटामिन A की पूर्ति होगी। आप अपने भोजन में लहसुन अदरक गाजर आलू सेब आदि का सेवन भरपूर मात्रा में करें इन सभी में  विटामिन A भरपूर मात्रा में पाई जाती है जो आपके शरीर के अंदर पनप रहे फाइलेरिया को जड़ से खत्म करने में आपकी काफी हद तक मदद करती है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

अब मैं आपको आंवले के सेवन के बारे में बताता हूं। आंवले में विटामिन C भरपूर मात्रा में पाई जाती है जो शरीर के अंदर उठ रहे किसी घाव को जल्द से जल्द खत्म करने में मदद करती है। आंवले के सेवन से इसके शरीर के अंदर रोग निरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। रोग निरोधक क्षमता के बढ़ने से मरीज के शरीर के अंदर फाइलेरिया के कीड़े निष्क्रिय होने लगते हैं।

अतः आप अपने फाइलेरिया के इलाज के लिए आंवले का सेवन अधिक से अधिक मात्रा में करें। यदि आप आंवले का सेवन कल सुबह करते हैं तो यह आपके शरीर के अंदर तेरा के इंफेक्शन को पनपने नहीं देता है। आंवले के सेवन करने से आपके शरीर के अंदर फाइलेरिया से हो रहे सूजन इन्फेक्शन इत्यादि को भी जड़ से खत्म किया जा सकता है। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

अपने शरीर के अंदर हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे दूर करे हिंदी में जानकारी

अब मैं बात करता हूं अश्वगंधा के बारे में आप सभी ने अश्वगंधा और शिलाजीत का नाम अवश्य सुना होगा यह दोनों आयुर्वेद जगत के बहुत ही जाने माने दवाइयों का हिस्सा माना जाता है जिससे अन्य प्रकार की भी दवाइयां बनाने में मदद मिलती हैं। मलेरिया से पीड़ित मरीजों को अश्वगंधा का सेवन करने से उनके फाइलेरिया में बहुत ज्यादा सुधार और आराम प्राप्त होता है। अतः मैं आप सभी से यह बताना चाहता हु कि यदि आपके आसपास कोई भी फाइलेरिया का मरीज है तो आप उसे अश्वगंधा का सेवन करवाएं अश्वगंधा के सेवन से शरीर के अंदर उपस्थित फाइलेरिया के कीड़े कम किए जा सकते हैं।

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
How to increase height लम्बाई कैसे बढ़ाए

अदरक के सेवन से भी आप शरीर के अंदर उपस्थित फाइलेरिया को जड़ से खत्म कर सकते हैं।अदरक के उपयोग से फाइलेरिया को जड़ से खत्म करने के लिए आप अदरक को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। प्रतिदिन सुबह एक गिलास गर्म पानी के साथ एक चम्मच अदरक के इस पाउडर का सेवन करें। अदरक के सूखे पाउडर के सेवन करने से आपके शरीर के अंदर रक्त साफ करने में बहुत ज्यादा मदद मिलती है। यदि मलेरिया के मरीजों का रक्त साफ होने लगता है तो उनके रक्त में उपस्थित फाइलेरिया के कीड़े भी जल्द से जल्द कम होने लगते हैं। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

How to Stop Hair Fall Naturally हिंदी में जानकारी

जैसा की आप सभी को पता है कि मच्छर के कीड़े जब हमारे रक्त में मिल जाते हैं तो वह हजारों की संख्या में पनपते हैं जो फाइलेरिया के रोगी को धीरे-धीरे फाइलेरिया के विकार अवस्था में ग्रस्त कर लेता है। यदि मरीज अदरक के पाउडर का सेवन प्रतिदिन सुबह एक गिलास पानी के साथ करता है तो मरीज के शरीर के खून साफ होने में काफी मदद मिलती है।

अब मैं आपको एक ऐसे रामबाण इलाज के बारे में बताने जा रहा हूं जिसकी सहायता से हाथीपांव अर्थात फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारियों को जड़ से आसानी से बहुत जल्दी खत्म किया जा सकता है। आप सभी ने भृंगराज का नाम अवश्य सुना होगा। भृंगराज अक्सर बालों में इस्तेमाल किया जाता है बालों को घने लंबे और काले बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाले भृंगराज ना केवल बालों के लिए उपयोगी है या फाइलेरिया और हाथीपांव जैसी खतरनाक बीमारियों के लिए भी बहुत ज्यादा उपयोगी माना जाता है (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

नीम के पत्ती के असाधारण औषधीय गुण हिंदी में जानकारी

सबसे पहले मैं आपको बता देता हूं कि आप भृंगराज का उपयोग कैसे करेंगे फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए।। भृंगराज के उपयोग करने के लिए आपको सबसे पहले भृंगराज की 10 से 15 पत्ती लेनी है और सरसों का तेल लेना है। सबसे पहले आप भृंगराज की पत्ती को अच्छे से पीस लें और सरसों तेल में इसे पकाएं। यह है कि आप किसी भी बर्तन के सहायता से भी पतियों को तेल में पका लें।

बाद में छलनी के सहायता से आप भृंगराज के उन पतियों को हटा ले और बस तेल  को एकत्रित कर ले। इस तेल का उपयोग आप अपने शरीर के इन हिस्सों पर कर सकते हैं जहां पर आपको फाइलेरिया के लक्षण नजर आ रहे हैं। इस दिल को आप स्टोर भी कर सकते हैं। 1 दिन में आप तीन से चार बार इस्तेमाल कर सकते हैं इस्तेमाल करके कम से कम आपको 3 से 4 महीने में इसके फायदे नजर आने लगेंगे। यह बहुत ही रामबाण और अचूक दवा है फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

How to Control Diabetes Naturally हिंदी में जानकारी

यदि आप केले का सेवन करते हैं तो यह आपके फाइलेरिया और ज्यादा बढ़ाने में आपकी मदद करता है। केले में कुछ ऐसे गुण मौजूद है जो शरीर के चमड़े को मोटा करते हैं शरीर के वजन बढ़ाने में मदद करते हैं। यदि ऐसे समय में आप केले का सेवन करेंगे तो आपके शरीर के अंदर उपस्थित फाइलेरिया और ज्यादा मात्रा में बढ़ने लगते हैं। जिससे आपके रोग के बढ़ने की क्षमता और ज्यादा अधिक हो जाती है। अतः मैं आप सभी से यह बताना चाहता हूं कि यदि आपके शरीर के अंदर फाइलेरिया एक खतरनाक बीमारी के लक्षण है तो आप केले के सेवन बिल्कुल ना करें।

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

आज मैं आपको बताने वाला हूं इसके सेवन को भी आपको कमी करने हैं यदि आप अपने भोजन में चावल ज्यादा मात्रा में सेवन करते हैं चावल खाना पसंद करते हैं तो आपको इसके सेवन को कम और बंद करना अति आवश्यक है। चावल भी हमारे शरीर के अंदर शरीर को फुलाने अथवा वजन को बढ़ाने में काफी हद तक मदद करता है अतः यदि आप फाइलेरिया से ग्रसित है और आप चावल का सेवन करते हैं तो आपके शरीर के अंदर फाइलेरिया तेजी से बढ़ने लगता है। फाइलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी में चावल का सेवन जितना हो सके कम करें (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार
फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार

डेंगू क्या है डेंगू के बुखार को कैसे रोके हिंदी में जानकारी

यदि हमारे द्वारा बताए गए इस जानकारी से आप संतुष्ट हो यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो आप इसे सोशल साइट पर शेयर कर दें। ताकि अधिक से अधिक लोगों को इससे मदद मिल सके। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आजकल के समय में फाइलेरियासे परेशान लोगो की संख्या काफी ज्यादा बढ़ गए हैं। तो उन्हें इस तरह की समस्या से रहत पाने के लिए फाइलेरिया के उपचार की पूरी जानकारी होनी अतिआवश्यक है। आपके शेयर करने से बहुत सारे लोगों को इस बात की जानकारी हो जाएगी। जिससे कि उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यदि आपको किसी भी तरह की कोई सलाह चाहिए।

आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। कमेंट करने के लिए आपको इस पोस्ट के नीचे कमेंट करने का विकल्प आसानी से नजर आ जाएगा। यदि आप हमें किसी भी तरह का मैसेज देना चाहते हैं तो आप मैसेज देने के लिए हमारे वेबसाइट के होमपेज पर Facebook के माध्यम से हमें मैसेज भी दे सकते है। हम आपके द्वारा किए गए कमेंट और मैसेज का जवाब देने की जल्द से जल्द कोशिश करेंगे। (फाइलेरिया क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार)

Thyroid थायराइड क्या है थायराइड से कैसे बचे हिंदी में जानकारी

  •  
    104
    Shares
  • 104
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

6 Comments

  1. Pingback: आवला के गुण और आवला के उपयोग से रोगों का उपचार हिंदी में जानकारी | Limant
  2. Pingback: High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार | Limant
  3. Pingback: अपने शरीर के अंदर हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे दूर करे हिंदी में जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *