दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय

दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय

दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय

आजकल भारत ही नहीं पूरे विश्व में दांतो की परेशानी से बहुत ज्यादा लोग प्रभावित होते जा रहे हैं। दांतो का असमय टूटना दांतों के ऊपर पीला परत जम जाना मसूड़ों से खून आना मसूड़े और दांत में बैक्टीरिया के प्रभाव के कारण मुंह से बदबू आना इत्यादि से लोग बहुत ज्यादा परेशान हो चुके हैं। आज मैं आप सभी को दांत के पीलेपन को दूर करने के बारे में विस्तार से बताने जा रहा हूं। इस उपाय से आप अपने दांतो के अंदर हो रहे परेशानियों को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं। दांत के पीले होने के पीछे बहुत सारे और विभिन्न तरह के कारण हो सकते हैं। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

अपने शरीर के अंदर हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे दूर करे हिंदी में जानकारी

इन कारणों का जानना हमारे लिए बहुत ज्यादा आवश्यक है। जैसा कि आप सभी जानते हैं। कि हमारे शरीर के अंदर उत्पन्न हो रहे अनेक प्रकार के रोग के कारण के बारे में यदि हमें ज्ञात हो जाता है। तो हम उसके उपचार के लिए औषधि की खोज में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं होती है। अतः सबसे पहले किसी रोग के इलाज से पहले उस रोग के कारण का जानना अति आवश्यक है। आजकल के समय में सभी चाहते हैं। कि उनके दांत बिल्कुल सफेद और चमकदार हो (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

बढ़ते हुए वजन और चर्बी को कैसे कम करे हिंदी में जानकारी

क्योंकि चमकदार दांत हमारे पर्सनालिटी में और चार चांद लगा देता है। यदि हमारा दांत गंदा अर्थात पीला दिखाई देता है। तो हम ठीक से किसी के सामने बोल भी नहीं पाते हैं। यहां तक की खुलकर हंसना और बात करना भी हमारे लिए बहुत ज्यादा मुश्किल खड़ा कर देता है। सबसे पहले मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि दांत के पीले और खराब होने के पीछे हमारे प्रतिदिन का ब्रश ना करना भी हो सकता है। अतः दांतों की सफेदी को बरकरार रखने के लिए हमें प्रतिदिन दिन में दो बार दांतों को साफ करना अति आवश्यक है।

Thyroid थायराइड क्या है थायराइड से कैसे बचे हिंदी में जानकारी

आजकल के समय में ज्यादातर लोग अपने दांत के पीलेपन से बहुत ज्यादा परेशान रहते हैं। दांत का पीलापन ना केवल हमारे पर्सनालिटी को ही खराब करता है। बल्कि यह हमारे शरीर के अंदर बहुत तरह की बीमारियों को भी बुलावा देता है। दांत के पीलापन होने के कई सारे कारण हो सकते हैं। सबसे प्रमुख कारण हमारे गलत खान पान और दैनिक दिनचर्या में गड़बड़ी हो सकती है। जिसके कारण दांतों में पीलापन आ जाता है। और दांतो का रंग पीला पड़ने लगता है। जिससे किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। दांत के पीले होने के कारण कई जगह हमें काफी शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

डेंगू क्या है डेंगू के बुखार को कैसे रोके हिंदी में जानकारी

तो आइए आज हम जानते हैं। कि हमारे दांतो के पीलापन और मसूड़े में तरह तरह की परेशानियां उत्पन्न होने का प्रमुख कारण क्या है। यदि हम अपने दांतो को प्रतिदिन साफ नहीं करते हैं। तो हमारे द्वारा किए गए भोजन से हमारे दांतो के आसपास धीरे-धीरे प्लाज्मा जमा होने लगता है। पता नहीं चल पाता है कि हमारे दांतो के आसपास किस तरह की परेशानियां उत्पन्न हो रही है। ऐसे शुरुआती दौर में प्लाज्मा का भी कुछ ज्यादा अनुमान नहीं चल पाता है। कि हमारे दांतो के आसपास प्लाज्मा जमा हो रहा है।

अपने चेहरे से दाग धब्बे पिम्पल्स मुहासे को हटाने के उपाय

क्योंकि जब प्लाज्मा शुरुआती दौर में हमारे दांतो के आस पास जमा होने लगता है। तो इसका रंग भी सफेद होता है। और यह दांतो के रंग से मैच करता है। इसी कारण से हमें अपने दांतो के आसपास जमा हो रहे प्लाज्मा का ज्यादा ज्ञान नहीं हो पाता है। ज्यादातर देखा जाता है कि जब भी कोई इंसान अपने दांतो को साफ करता है। तो अपने दांतो को अगले हिस्से को ज्यादा साफ करता है। और पिछले हिस्से को वह साफ करना छोड़ देता है। जिस कारण से यह प्लाज्मा धीरे-धीरे हमारे दांतो के पिछले हिस्से में भी जमा होने लगते हैं।

किडनी के विकार के लक्षण और सुरक्षा के प्राकृतिक उपाय

धीरे-धीरे प्लाज्मा इतना कठोर हो जाता है। कि इसे ब्रश के द्वारा साफ किया जाना बहुत मुश्किल होता है। जब यह प्लाज्मा धीरे-धीरे हमारे दांतो के पिछले हिस्से में जमा होकर कठोर हो जाता है। तो धीरे-धीरे हमारे दांतो को पीला करना शुरू कर देता है। यह पीलापन यदि ज्यादा दिन तक हमारे दांतो के आसपास रह जाता है। तो धीरे-धीरे इसका कलर पीले से काला पड़ने लगता है। इस प्लाज्मा से हो रहे दुष्प्रभावों का पता हमें शुरुआती दौर में नहीं चल पाता है। लेकिन लंबे समय तक जब प्लाज़्मा हमारे दांतो के इर्द-गिर्द जमा होने लगता है। और हमारे दांतो को पीला करने लगता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

TB अर्थात क्षय रोग के लक्षण अथवा बचाव हिंदी में जानकारी

तब हमें इसका आभास होने लगता है। दांतो के आस पास जमा हो रहे प्लाज्मा हमारे मसूड़ों को और हमारे दांतो को धीरे-धीरे कमजोर करना शुरु कर देती है। दांतो के आस पास जमा हो रहे प्लाज्मा हमारे दांतो को खोखला करना शुरु कर देती है। आज मैं आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे के बारे में विस्तार से बताने जा रहा हूं। जिसकी उपयोग से आप अपने मुंह के दांतों के और मसूड़ों की परेशानियों से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन इस औषधि के उपयोग से पहले मैं आप सभी को यह बता देना चाहता हूं।

कैंसर के शुरुआती लक्षण और कैंसर के विकार से बचने के उपाय हिंदी में जानकरी

कि आपके दांत पीले होने का मुख्य कारण क्या है। ऐसा कौन सा कारण है जिससे आपके दांत धीरे-धीरे पीला होना शुरू हो जाता है। ज्यादातर देखा जाता है कि आजकल के बच्चों के दांत पीले और काले होते जा रहे हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि बच्चे ज्यादा मात्रा में चॉकलेट का सेवन करते हैं। और चॉकलेट हमारे दांतो के लिए बहुत खराब माना जाता है। चॉकलेट के लगातार सेवन करने से हमारे दांतो में बहुत बुरा और गहरा दुष्परिणाम नजर आने लगता है। यदि हम चॉकलेट का लगातार सेवन करते हैं। तो हमारे दांतों में पीलापन और कालापन बड़ी जल्दी नजर आने लगती है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

Arthritis गठिया रोग के लक्षण और इसके बचाव से उपचार की जानकारियां

केक के सेवन करने से भी हमारे दांतो में बुरा प्रभाव पड़ता है। केक के ज्यादा सेवन करने से हमारे दांतों में कीड़े लगने शुरु हो जाते हैं। जो धीरे-धीरे दातों को खराब कर देता है। यदि कोई व्यक्ति ज्यादा मात्रा में कोल्ड ड्रिंक का सेवन करता है। तो उसके दांतो में बहुत जल्दी दुष्परिणाम नजर आने लगते हैं। डिब्बाबंद दूध के सेवन करने से भी हमारे मसूड़ों पर बहुत गहरा दुष्परिणाम नजर आता है। अतः आप सभी कोशिश करें कि हमेशा गाय दूध का सेवन करें। यदि आप डब्बे बंद दूध का सेवन करते हैं। तो आपके इन के सेवन से बचना होगा। क्योंकि डिब्बाबंद दूध के सेवन करने से मसूड़ों में बैक्टीरिया का प्रभाव बहुत जल्दी फैलने लगता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

Snake Poison First Treatment सांप के विष का उपचार Limant Post

ताज़ा जूस के सेवन करने से हमारे दांतो में किसी प्रकार का कोई दुष्परिणाम नहीं पड़ता है। अतः आप ताजा जूस का सेवन करने से अपने दांतो को और मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग चाय कॉफी का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं। उनका यह मानना है कि चाय और कॉफी के सेवन करने से उनकी थकावट बहुत जल्दी खत्म हो जाती है। लेकिन चाय और कॉफी के सेवन करने से हमारे दांतो पर बहुत बुरा दुष्प्रभाव पड़ता है। जैसा की आप सभी को पता है कि चाय में निकोटिन कैफीन जैसे केमिकल पाए जाते हैं।

Asthma अर्थात दमा के विकार के उपचार की हिंदी में जानकारी

और यह हमारे दांतो के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक होने लगता है। ज्यादा चाय और कॉफी के सेवन करने वाले इंसान के दांत धीरे-धीरे भूरे होने लगते हैं। चाय और कॉफी के ज्यादा सेवन करने से ना केवल यह हमारे दांत और मसूड़ों पर बुरा प्रभाव डालता है। बल्कि चाय और कॉफी के ज्यादा सेवन करने से हमारे शरीर के अंदर हाई ब्लड प्रेशर हार्ट अटैक पैरालाइसिस ब्रेन हेमरेज खट्टी डकारों का आना पेट में भारीपन जैसे रोगों को भी बढ़ावा देता है।

How to increase height लम्बाई कैसे बढ़ाए हिंदी में जानकारी

इसी कारण कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति ज्यादा मात्रा में चाय या कॉफी का सेवन करता है। और उनके दांतों और मसूड़ों में किसी भी तरह की परेशानी उत्पन्न हो रही है। तो उन्हें अपने दैनिक जीवन में चाय और कॉफी के सेवन को कम करना अति आवश्यक है। ज्यादा मात्रा में तंबाकू सिगरेट शराब और नशीली पदार्थों को सेवन करने से भी हमारे दांतो के अंदर पीलापन और मसूड़ों में परेशानी उत्पन्न होने लगती है। यदि कोई व्यक्ति लंबे समय से गुटके का प्रयोग कर रहा है। तो उनके दांतों में इन तरह की परेशानियों का आना आम बात हो जाता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

फाइलेरिया हाथीपाँव क्या है फाइलेरिया रोग के लक्षण और उपचार कैसे करे

अतः यदि कोई व्यक्ति लंबे समय से गुटखे पान बीड़ी सिगरेट शराब या किसी नशीली पदार्थ का सेवन करते आ रहे हैं। तो उन्हें अपने दांतो को छति से बचाने के लिए इस तरह की नशीली पदार्थों का सेवन बंद करना अति आवश्यक है। तो अब मैं आप सभी को बताना चाहूंगा। कि आप कैसे घरेलू नुस्खे के साथ अपने दांत के इस तरह की परेशानियों को दूर कर सकते हैं। सबसे पहली औषधि को तैयार करने के लिए आपको नारियल के तेल बेकिंग सोडा और नमक की जरूरत होगी। एक चम्मच नारियल के तेल में एक चम्मच बेकिंग सोडा और दो चुटकी नमक एक साथ मिक्स करके आप इसे अच्छी तरह से पेस्ट बना लें। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

आंवला के गुण और आंवला के उपयोग से रोगों का उपचार हिंदी में जानकारी

इसे अच्छी तरह से मिलाने के बाद आप इसे अपने दांतो के चारों तरफ लगा दे। आप जब भी अपने मुंह को साफ करने का सोचे तो आप कोशिश करें कि इसी पेस्ट का उपयोग करें। इस पेस्ट के लगातार उपयोग से आप अपने दांतो के आस पास जमा हो रहे पीलेपन को आसानी से दूर कर सकते हैं। जैसा की आप सभी को पता है कि यह बिल्कुल आयुर्वेदिक औषधि है। तो आपको इसमें किसी भी तरह के साइड इफेक्ट की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। आप आसानी से इसे अपने दांतो को स्वस्थ करने के लिए उपयोग में ला सकते हैं।(दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

Piles अर्थात बवासीर के शुरुवाती संकेत लक्षण और उपचार

इसके उपयोग से आप मुंह से आ रहे बदबू को भी आसानी से दूर कर सकते हैं। बेकिंग सोडा आपके मुंह के अंदर उत्पन्न हो रहे बदबू को भी दूर करने में आपकी मदद करता है। यदि आपका दांत ज्यादा सेंसिटिव है। आपके दांतों में बहुत जल्दी झनझनाहट आने लगती है। तो आपको इस औषधि के उपयोग से बचना चाहिए। अर्थात आपको इस औषधि का उपयोग अपने दांतो के पीलापन हटाने के लिए बिल्कुल नहीं करना है। क्योंकि बेकिंग सोडा आपके सेंसिटिव दांतो के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। अतः आप सभी कोशिश करें कि यदि आपके दांतो में ज्यादा सेंसिटिव बनने लगता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

High blood pressure और Low blood pressure के लक्षण संकेत और उपचार

तो आप इस नुस्खे का उपयोग बिल्कुल भी ना करें। इस नुस्खे को आप रोजाना इस्तेमाल ना करें। हफ्ते में 1 बार और महीने में चार से पांच बार ही आप इस नुस्खे का इस्तेमाल कर सकते हैं। रोजाना इस्तेमाल करने से आपके दांतो के पीलेपन को खत्म होने लगती है। लेकिन इसके साथ आपके दांतो में अन्य तरह की परेशानियां उत्पन्न हो जाएगी। अतः आप कोशिश करें कि इस औषधि का उपयोग अपने दांतो के लिए आप महीने में तीन से चार बार ही करें। अब मैं आपको अगले नुस्खे के बारे में बताने जा रहा हूं। जिसकी उपयोग से आप अपने दांतो और मसूड़ों को स्वस्थ बना सकते हैं। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

Kidney Stone क्या है Kidney से Kidney Stone को बाहर निकलने के सरल उपाय

इस नुस्खे को बनाने के लिए आप को तुलसी के पत्ते और संतरे के छिलके दोनों की आवश्यकता होगी। तुलसी के पत्तों में दांतो को स्वस्थ रखने के बहुत ऐसे गुण मौजूद होते हैं। जो आपके दांत और मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखते हैं। इस नुस्खे को बनाने के लिए सबसे पहले आपको तुलसी के पत्ते और संतरे के छिलके को अच्छी तरह से सुखाकर इनका पाउडर तैयार कर लेना है। पाउडर तैयार करने के बाद आप इस नुस्खे को बना सकते हैं। इस पाउडर का उपयोग आपको रोजाना सुबह दांत साफ करने के समय अपने मुंह में ब्रश के साथ करना है। संतरे के छिलके में मौजूद विटामिन सी आपके दांतो के पीलेपन को दूर करने में बहुत ज्यादा मदद करता है। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

Heart Attack यानी दिल का दौरा आने से पहले के संकेत और उपचार

और तुलसी के पत्ते में मौजूद गुण आपके मुंह से बदबू को दूर करने में मदद करता है। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो। तो आप इसे सोशल साइटों पर शेयर अवश्य कर दें। ताकि उन सभी लोगों को यह महत्वपूर्ण जानकारी पता चल सके। जिन्हें अपने दांतो के पीलेपन से ज्यादा परेशानी उत्पन्न हो रही है। यदि आप हमसे कुछ पूछना चाहते हैं। तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। कमेंट करने के लिए आपको हमारे वेबसाइट के नीचे इस पोस्ट के नीचे एक कमेंट करने का विकल्प आसानी से प्राप्त हो जाएगा। यदि आप हमें मैसेज करना चाहते हैं। तो आप हमारे वेबसाइट के होम पेज पर जाकर Facebook के जरिए आप हमें मैसेज भी कर सकते हैं। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

धूम्रपान से मुक्ति धूम्रपान की वजह से फेफड़े में जमा हो रहे गंदगी को साफ़ करे

यदि आप हमारे साथ किसी खास मुद्दे पर बातचीत करना चाहते हैं। तो आप हमें ईमेल कमेंट और मैसेज के जरिए से आसानी से बता सकते हैं। यदि आप दांतो के पीलेपन के बारे में विशेष जानकारी रखते हैं। तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं। आपके द्वारा दी गई जानकारी यदि सत्य साबित होती है। तो हम आपके द्वारा दी गई जानकारी को अपने वेबसाइट पर आपके नाम के साथ संलग्न करेंगे। (दांतों के पीलेपन से छुटकारा और मसूड़ों के रोग से मुक्ति के उपाय)

15 दिनों में बालो से जुडी समस्याओं का समाधान आयुर्वेद के साथ

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

7 Comments

  1. I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored material stylish. nonetheless, you command get got an impatience over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come further formerly again since exactly the same nearly a lot often inside case you shield this increase.

  2. Pingback: दाद खाज खुजली के समस्याओं के कारण और इसके उपचार | Limant
  3. Pingback: गठिया रोग के शुरुआती लक्षण और इसके उपचार के उपाय | Limant

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us