चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

Limant Post में आप सभी का एक बार फिर से बहुत बहुत स्वागत है। दोस्तों ऐसे तो मै सभी रविबार को आपके लिए कोई न कोई प्रेरणदायक कहानी लता ही रहता हु।आज भी मै कुछ ऐसा ही आपके लिए लेके आया हु। सायद इस  कहानी को पढ़ने  के बाद आपके जीवन में नयी ऊमीद की किरण जगेगी। दोस्तों कहा जाता है की इंसान तक नहीं हारता जब तक वो मैदान में खड़ा रहता है। जिस दिन वो मैदान को छोड़ देता है। हार उसके जिंदगी में उसी समय से संलग्न हो जाता है। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

पत्थर उठाने वाला दिलीप सिंह राणा बन गया The Great Khali

पहचान से मिला हुआ काम कुछ समय के लिए ही होता है।

काम से मिला हुआ पहचान उम्र भर के लिए होता है ।

दोस्तों आज मै एक ऐसे इंसान की बात करने जा रहा हु। जो आप सभी लोगो के लिए बहुत ही प्रेरणादायक है। ये कहानी उनसभी लोगो के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। जिनके जीवन के किसी कारणवस अपने जीवन को लक्ष्य की प्राप्ति नहीं हुई। और वे मायुश होके अपने उस लक्ष्य को छोड़ दिया। दोस्तों मै हमेशा से आपको कहता आया हु की सफलता बहुत ही साधारण शब्द है।

फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह की जीवनी और इनके जीवन की प्रेरणदायक कहानी

अगर आप इसे एक शब्द के रूप में देखे तो आपको इसका कोई महत्व नहीं दिखेगा। लेकिन जब आप इसे साधारण शब्द को किसे सफल इंसान के जीवन से जोड़ के देखोगे तो आपको वहा एक बहुत ही बदला हुआ मतलब नजर आएगा। दोस्तों मै सभी का समय वयर्थ न करते हुए सभी पाठको को उस इंसान के बारे में बताने जा रहा हु। जिसने अपनी जिंदगी को फर्श से उठा के अर्श के उन ऊचाइयो के बिच ले गया जहा पहुंचने के बाद सभी उसे सफलता कहते है। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

India Tv के मालिक रजत शर्मा के जीवन की संघर्षपूर्ण सफर की कहानी

आज मै बात करने जा रहा हु नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की जो एक भारतीय अभिनेता है। दोस्तों मै जनता हु की हमारे कुछ पाठको ने इनके बारे में सुन भी रखा होगा कुछ लोगो ने नहीं भी सुना होगा। लेकिन जिनलोगो ने इनके बारे में सुना होगा वो इन्हे बस परदे पे अनयथा इंटरनेट के जरिये सुना होगा। लेकिन मै आज जो बात करने जा रहा हु वो कहानी एक सुपर स्टार अभियंता नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की नहीं बल्कि एक चौकीदार की कहानी है जिन्होंने चौकीदार के काम से खुद को इस मुकाम तक लेके गए जहा इन्हे बड़े ही आदर और सत्कार के साथ पुछा जाता है इनका नाम लिया जाता है।

प्रेरणादायक कहानी दशरथ मांझी मनुष्य जब जोड़ लगता है पत्थर पानी बन जाता है

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी
चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का जन्म 19 मई 1974 को भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य के मुज़फ्फरनगर जिले में हुई थी। नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। और अपने घर में 8 भाई बहन में सबसे बड़े थे। हाई स्कूल के पढाई मुज़फ्फरनगर में ही पूरी करने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने हरिद्वार विस्यविद्यालय से विज्ञानं में डिग्री प्राप्त की। कॉलेज की पढाई पूरी करने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी दिल्ली आ गये। यहाँ आने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने नौकरी की तलाश कर दी।

प्रेरणादायक विचार जब दर्द नहीं था सीने में तो खाक मजा था जीने में Limant Post

कुछ दिनों के तलाश के बाद इन्हे एक दवाई के दुकान पे नौकरी मिल गई। ये यहाँ पे ग्राहकों को दवाई पहुंचने का काम करते थे। एक बार ये अपने दोस्तों के साथ एक नाटक देखने दिल्ली में ही गए। वहा नाटक देखने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के मन में हुआ की वो भी नाटक में काम करे। बात दरससल ये थी की जब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी नाटक देख रहे थे। तो वो नाटक एक माँ और बेटे पे आधारित थी और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को भी अपने माता से बहुत लगाव था। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

Paytm के मालिक विजय शेखर शर्मा के जीवन के संघर्ष की कहानी

इस एक्ट को देखने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बहुत भबूक भी हुए और उनके अंदर प्रसनत्ता भी हुई। यहाँ नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने लगभग 10 नाटकों में काम किया। जब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को यहाँ से डिग्री मिल गई तो नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी दिल्ली से मुंबई की तरफ रवाना हुए। कहा जाता है की जिस किसी भी इंसान के मन में अभिनय का विचार आता है। वो मुंबई की तरह ही रवाना हुआ है। इसे सब को सोच के नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी भी मुंबई के लिए रवाना हूए। नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के साथ नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के कुछ दोस्तों ने भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के साथ के मुंबई जाने का विचार बनाया और वो भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के साथ मुंबई को चले।

Inspirational Story Shah Rukh Khan 1500 से 4000 करोड़ तक का सफर

जब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी मुंबई पहुंचे तो यहाँ पे इन्होने नाटक करने के लिए बहुत जगह खोज की। लेकिन यहाँ ऐसा कुछ नहीं हुआ जैसा की इन्होने सोचा था। कोई काम न मिलने के कारन नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को यहाँ बहुत परेशानी होने लगी। इनके साथ आये हुए सभी दोस्त ने भी हार मान ली थी। वे सभी एक एक कर के अपने घर के तरफ चलते बने। बस नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी वहा अकेले रह गए। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी
चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

इनके पास भी पैसे की तंगी होने के कारन इन्हे मुंबई में रहने खाने की भी दिक्कत होने लगी। नौबत यहाँ तक आ गई की नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को खाने तक के पैसे नहीं थे। नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी  के मन में तरह तरह के विचार आने लगे। जब इन्हे कुछ उपाय नहीं दिखा तो ये एक चौकीदार की नौकरी कर ली। इनके इस नौकरी से इनके जीवन के कुछ परेशानी काम हो गई। ये रात भर वहा चौकीदारी का काम किया करते थे। चौकीदार होने के कारन इन्हे वहा एक कमरा भी दिया गया।

Best Inspirational Thought Success or Die करो या मरो

जहा नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी आराम से रहने लगे। लेकिन नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के जहन में तो एक्टिंग करने का जोश था। समय के ख़राब होने के कारन नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने चौकीदारी का काम किया था। ये यहाँ रात भर काम करने के बाद दिन में मुंबई में नाटक कम्पनी वालो के पास जाके काम की खोज करते।

चलता रहूँगा पथ पे चलने में माहिर बन जाऊंगा।
या मंजिल मिल जाएगी।
या फिर अच्छा मुसाफिर बन जाऊंगा

काफी मेहनत करने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को 1999 में आमिर खान के फिल्म सरफरोश में एक छोटा सा रोल मिला। हलाकि काफी छोटा रोल होने के कारन इन्हे कोई पहचान नहीं मिली। फिर भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने कोसिस को जारी रखा। कुछ ही दिनों में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को एक दूसरी फिल्म जंगल में एक मेस्सेंजर का रोल मिला। हलाकि रोल ये भी छोटा था। इस फिल्म से भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को कोई पहचान नहीं मिली। कुछ ही दिनों में इन्हे संजय दत्त के फिल्म मुन्ना भाई MBBS में भी एक छोटा रोल मिला। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम के जीवन के प्रेरणादायक सफर हिंदी में जानकारी

इतने मेहनत के बाद भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को बस गेस्ट रोल ही मिल रहा था 1 मिनट या 2 मिनट के जिससे इन्हे कोई पहचान नहीं मिल पा रही थी। यहाँ काम न मिलने पे नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने अपना रुख छोटे परदे के तरफ आजमाया। लेकिन नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को यहाँ भी असफलता हाथ लगी। उन्हें छोटे परदे पे भी कोई काम नहीं मिला। कहा जाता है की सफल इंसान के अंदर हिम्मत बहुत होती है। इतनी असफलता के बाद भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने हार नहीं मानी। और अब वो छोटे और बड़े परदे दोनों पे काम ढूंढना सुरु कर दिया।

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी
चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

कुछ दिनी के मेहनत के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को फिर से इरफ़ान खान के साथ काम करने का मौका मिला। इन्होने इरफ़ान खान के साथ फिल्म बाईपास में काम किया। इस काम को करने के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के जिंदगी में फिर से काम मिलना बंद हो गया। लेकिन नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने अपना खोज जारी रखा। इसे बिच नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने अपने 4 दोस्तों के साथ एक कमरा किराये पे ले लिया। और उसे में अपने दोस्तों के साथ रहने लगे और छोटे मोटे नाटकों में काम करके अपना जीवन चलाने लगे। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

प्रेरणादायक कहानी तांगा चलने वाला धर्मपाल गुलाटी कैसे बने MDH मसाले कम्पनी के मालिक

लेकिन किसे ने सही कहा है समय बदलते देर नहीं लगती 2007 में अनुराग कश्यप के फिल्म फ्राइडे में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने पॉवरफुल रोल प्ले किया। और इनकी ये मेहनत इनके जीवन में रंग लायी। दोस्तों मै बार बार आपसे यही कहंता ही सफलता इतनी आसानी से नहीं मिलती लोगो को मैंने देखा है। 5 दिन 10 दिन 30 दिन 5 महीने में थक जाते है। दोस्तों आपको अगर सफलता पाना है तो आप तक तक उस काम में लगे रहो जबतक आप सफल नहीं हो जाते।

सलाह और सफलता Advice does not always lead to success

आप सभी लोगो ने नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की जिंदगी को देखा इंसान यहाँ कुछ दिन में ऊब जाते है। और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने इतने ख़राब समय में भी सालो सालो लगा दिया अपने सफलता के पीछे। अगर आपको सफल होना है। तो आपके अंदर वो जिद होना चाहिए की मै ये काम कर के रहूँगा ये काम कैसे नहीं होगा जरूर होगा और जरूर होगा। (चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी)

चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी
चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी

किसे ने क्या खूब कहा है।
इन्तजार करने को वालो को उतना ही मिलता है।
जितना कोशिस करने वाले छोड़ देते है।

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के जीवन के बदलने का समय आ गया था। फिल्म फ्राइडे की सफलता के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की एक्टिंग सबके नजर में आयी। जैसा की आप जानते है अभी के दौर में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने बड़ी से बड़ी हस्तियों के साथ भी काम किया है। फ्राइडे फिल्म की सफलता के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के जीवन में खुशियो का मेला लग गया था। इस के समय के बाद नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने पीछे मुड़ के नहीं देखा और अपनी सफलता के एक एक सीढ़ी आगे चढ़ने लगे। आज के समय में इन्हे कौन नहीं जनता इनकी फिल्म बड़े बड़े सुपर स्टार के साथ आती है। अब इन्हे काम खोजने की जरुरत नहीं काम इन्हे खोजते हुए इनके पास खुद आता है।

सच बोलने के माध्यम से अपने जीवन में खुशी और शांति प्राप्त करे

दोस्तों अब मै आपसे बिदा लेता हु। बिदा लेने से पहले मै आपको फिर से बता दू कि अगर आपको ये कहानी पसंद आयी हो तो आप इसे शेयर जरूर करे।(चौकीदार से ले के सुपरस्टार तक की प्रेरणादायक और संघर्ष की कहानी) जिससे जयादा से जयादा लोगो के पास ये पहुंच सके और आपका कोई विचार है। इस कहानी के प्रति तो मुझे कमेंट के जरिये जरूर बताये। अब मै आपसे बिदा लेता हु। आपसे फिर मुलाकात होगी अगले प्रेरणादायक कहानी के साथ तब तक के लिए नसस्कार।

प्रेरणादायक कहानी दशरथ मांझी मनुष्य जब जोड़ लगता है पत्थर पानी बन जाता है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

197 Comments

  1. My programmer is trying to convince me to move to .net from PHP.

    I have always disliked the idea because of the expenses.

    But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on a number of websites for about a year and am concerned about switching to another platform.

    I have heard good things about blogengine.net. Is there a way I
    can import all my wordpress posts into it? Any help would be really appreciated!

  2. I used to be recommended this website by my cousin. I’m now not positive whether or not this put up is written by means of him as no one else
    recognize such specified about my trouble. You’re wonderful!
    Thank you!

  3. You made some really good points there. I looked on the web for additional information about the
    issue and found most individuals will go along with your views on this site.

  4. My spouse and I absolutely love your blog and find most of
    your post’s to be just what I’m looking for. Do you offer guest writers to write content for you?
    I wouldn’t mind composing a post or elaborating on a number of the subjects you write with regards to here.

    Again, awesome website!

  5. It’s amazing to go to see this web site and reading the views of all friends regarding this paragraph, while I am also eager of getting experience.

  6. My spouse and I stumbled over here different web
    page and thought I might as well check things out.
    I like what I see so i am just following you. Look forward to finding out about
    your web page repeatedly.

  7. Hey there! This is my 1st comment here so I just wanted to give
    a quick shout out and tell you I really enjoy reading through your blog posts.
    Can you suggest any other blogs/websites/forums that go over
    the same subjects? Appreciate it!

  8. Asking questions are actually pleasant thing if you are not understanding anything totally,
    however this piece of writing offers nice understanding yet.

  9. 0245 Tonight we also saw Democrats bag a rare beast of the American electoral jungle:
    the endangered Republican incumbent. Anh Cao, a former Jesuit seminarian who became
    the first Vietnamese American Congressman, lost his seat in New Orleans to Democrat
    Cedric Richmond. Even his recent declaration of
    “love” for Obama couldn’t save him.0236The longest serving member of the House, 84 year old Democrat John Dingell,
    won a 29th term in Michigan’s 15th district.

    cheap nfl jerseys Neither Simms Davis nor Zeller were at the Gateway Market that morning
    for the main event: breakfast with Rick Santorum a man as well
    known for being a former Pennsylvania senator as for lending his name to a byproduct of anal sex who many, even in Iowa,
    had forgotten was running. The event drew 25 people,
    10 of whom were journalists, which meant every attendee was interviewed multiple times.

    (During caucus season, Cheap Jerseys china people in Iowa
    are so accustomed to speaking to journalists at political events they often begin unprompted by spelling their surnames for
    the voice recorder.).cheap nfl jerseys

    wholesale jerseys from china Overview: Lorne Molleken is making his first trip to Regina as a member of the Giants.
    The former head coach of the Pats and Saskatoon Blades was
    hired by Vancouver in the offseason to replace Claude Noel, who was hired early last season to replace Troy Ward, who was hired the previous off season to replace Don Hay Molleken, who from Regina, is one
    of the winningest head coaches in WHL history. Under his guidance,
    the Giants opened the season with a four game
    points streak (3 0 1) but they lost two in a row heading into tonight game 8 3 to the Brandon Wheat Kings and 8 5 to the Moose Jaw
    Warriors Vancouver is 1 2 0 1 so far on its East Division road trip The Giants last visit to the Brandt Centre was on Oct.wholesale jerseys from china

    wholesale nfl jerseys Just predict the winners of 24 different sports events in 2015.

    Closing date is Sunday March 29th. Next Saturday the 28th,
    the club is hosting a clothes collection drive. An entire round in Auckland
    would compensate for the loss of the Nines while allowing that
    tournament to move to Perth. Likewise, an whole round
    and ANZ or Allianz would give the code an early season feel good factor.
    And fill some of those horrible empty seats..wholesale nfl jerseys

    wholesale nfl jerseys from china However, Erdogan spoke of an uncompromising approach
    to all manifestations of terrorism and subversive activities.

    And Modi fully endorsed it. Nevertheless, it remains
    to be seen how Erdogan subsequently acts on it. I’d wander over
    to the office at night and someone would be leaning into their
    computer, face aglow. There’s not a lot to do here in during down time.
    I asked a colleague what she did to unwind.wholesale nfl jerseys
    from china

    wholesale jerseys from china Leverage the international Rugby fan base: The closest sport to football, played
    around the world, with the largest fan base is Rugby.
    Rugby fans may be the path of least resistance
    to building an audience abroad. By giving more tryouts to Rugby players like Hayden Smith, and having exchange programs for players
    between NFL teams and Rugby clubs would create immediate interest.wholesale
    jerseys from china

    wholesale nfl jerseys from china When the Czech grandmaster David Navara was about to deliver a checkmate against Moiseenko at the 2011 World Cup and offered a draw instead, Tim called him a mistaken gentleman. Navara tried to compensate for the incident
    that happened earlier in the game: he was about to make a bishop move,
    but reaching for his bishop, he accidentally clipped his king.
    The story got a great deal of publicity, and we covered it in the article “The Hand of God in Chess”.wholesale nfl jerseys from china

    Cheap Jerseys from china Winnipeg will conclude its regular season Saturday night in Calgary
    against the Stampeders. Sears had the right to appeal the verdict but said in a statement he’ll abide by the league’s decision. After serving the suspension, Sears will be eligible to return to the Bombers’ lineup in time
    for the CFL playoffs..Cheap Jerseys from china

    wholesale jerseys There are numerous benefits it’s possible to stand to
    profit from leveraging the particular professional martial artwork services offered
    at most taekwondo universities. That is the reason why you ought to ensure
    the standing of the martial arts school you want to place your
    child. The net has made it easy for one to enjoy lots of solutions without passing through tension.wholesale jerseys

    wholesale jerseys from china And how about the other five senses How do
    we know just which senses we should focus on If
    they work to create the kind of romance your partner appreciates, then I believe you have
    what it takes to increase the power of your sixth sense, far beyond
    touch, taste, sight, smell and sound. Some people are
    natural good listeners, others need practice.
    When you truly listen to one another it demonstrates
    that you care about what they are saying wholesale jerseys from china.

    .

  10. Please let me know if you’re looking for a article author for your blog.
    You have some really great posts and I feel I would be a good asset.
    If you ever want to take some of the load off, I’d love to write some material for your
    blog in exchange for a link back to mine. Please send
    me an email if interested. Regards!

  11. It’s remarkable to visit this web page and reading the views of all colleagues on the topic of this post, while I am also keen of
    getting know-how.

  12. After I originally commented I seem to have clicked on the
    -Notify me when new comments are added- checkbox and from now on whenever a comment is added
    I get four emails with the same comment. There has to be
    an easy method you can remove me from that service?
    Many thanks!

  13. Pingback: Munaf Kapadia google की नौकरी छोड़ के बेचने लगे समोसा हिंदी में
  14. Pingback: दुनिया से सबसे अमीर इंसान Bill Gates के जीवन में हुए संघर्ष से परिचय | Limant
  15. Switching to a gluten-free diet is a big modification,
    and like anything new, it takes some obtaining used to.
    You may at first feel deprived by the diet plan’s constraints, particularly if you weren’t
    having unpleasant signs before your diagnosis.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us