आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय

आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय

आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय

आँखें इंसान के शरीर के अंगों में सबसे महत्वपूर्ण अंग माना जाता है। ऐसे में यदि किसी इंसान के शरीर के अंदर आंखों में परेशानियां उत्पन्न होने लगे तो उनका जीवन अधूरा अधूरा सा लगने लगता है। क्योंकि आंखें ही एक ऐसी अंग है जिससे हम पूरी दुनिया को देख पाते हैं। और किसी भी चीज को समझ पाते हैं। अक्सर यह देखा जाता है कि इंसान अपने शरीर के अन्य अंगों का काफी ध्यान रखते हैं। लेकिन जब बात आंखों की आती है तो इंसान आंखों के प्रति ज्यादा सजग नहीं हो पाता है। और धीरे-धीरे यह कारण आंखों की रोशनी को कम करने लगता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

यही एक कारण है कि यदि आंखों का देखभाल सही तरीके से सही समय पर ना किया जाए तो आंखों की रोशनी धीरे-धीरे कम होने के साथ-साथ बिल्कुल खत्म होने लगती है। सही देखभाल ना होने के कारण कम समय में ही आंखों में कई तरह की परेशानियां उत्पन्न हो जाती है। आजकल बहुत सारे लोगों में आंखों की समस्या उत्पन्न हो रही है। आंखों की समस्या किसी भी आयु के लोगों में आसानी से होना शुरू हो जाता है। आजकल के व्यस्त जीवन और गलत खानपान के उपयोग से कम आयु के बच्चों में भी आंखों की परेशानियां  देखी जा रही है। कम आयु के बच्चों को भी काफी मोटे मोटे चश्मे का उपयोग अपनी आंखों से देखने के लिए करना पड़ रहा है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आंखों की रोशनी के कम होने के कारण

आजकल के समय में इंसान ज्यादा से ज्यादा अपना समय कंप्यूटर और मोबाइल के सामने व्यतीत करने लगे हैं। यह एक सबसे प्रमुख और बड़ा कारण आंखों की रोशनी को प्रभावित करने के लिए माना जाता है।

हम चारों तरफ से इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव से घिरे हुए हैं। क्योंकि पूरे दिन में कंप्यूटर मोबाइल और टीवी के आसपास रहने के कारण हमारी आंखों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

ऐसे लोग जो किसी कारणवश अपना ज्यादा समय कंप्यूटर के सामने या मोबाइल के ऊपर या फिर टीवी के ऊपर समय व्यतीत करते हैं। ऐसे व्यक्तियों में आंखों के खराब होने तथा आंखों की रोशनी कम होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है।

ऐसे में यदि हम अपनी आंखों के प्रति सचेत ना रहें और अपने आंखों की देखभाल पर सजग ना रहे तो हमारे आंखों की रोशनी धीरे-धीरे कम होती जाती है। और आगे चलकर यह आंखों के लिए बड़ी परेशानी उत्पन्न कर देती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

प्रदूषण भी हमारी आंखों को क्षति पहुंचाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आजकल शहर और गांव में बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण आंखों की रोशनी में काफी तरह की परेशानियां उत्पन्न होने लगी है।

वातावरण में मौजूद धूल मिट्टी और कई अन्य प्रकार की ऐसे अवांछनीय तत्वों जो हमारे आंखों में पहुंच जाते हैं। और आंखों को क्षति पहुंचाने के लिए मदद करते हैं।

धूप की रोशनी भी कई बार हमारी आंखों को क्षति पहुंचाने के लिए उपयुक्त माना जाता है। ऐसे व्यक्ति जो धूप में ज्यादा रहते हैं। उन्हे आंखों की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

ऐसे व्यक्ति जो बराबर बीमार रहते हैं। या फिर जिन्हें डायबिटीज अर्थात मधुमेह की समस्याएं हैं। ऐसे व्यक्तियों को आंखों की रोशनी कम होने की संभावना बढ़ जाती है।

कई बार शरीर के अंदर हो रहे अन्य रोगों के उपचार के लिए हम रासायनिक दवाइयों का सेवन करते हैं। और बाजार से मिले हैं रासायनिक दवाइयों के सेवन करने से शरीर के अंदर कई प्रकार के साइड इफेक्ट उत्पन्न होने का खतरा बना रहता है।

बाजार से मिल रहे रासायनिक दवाइयों के सेवन करने से शरीर के अंदर कई अन्य तरह की परेशानियां उत्पन्न होने लगती है। इन दवाइयों के सेवन करने से उत्पन्न हो रहे साइड इफेक्ट से आंखों की रोशनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

गलत खान-पान और असंतुलित भोजन के सेवन करने से भी शरीर के अंदर आंखों की परेशानियां उत्पन्न होने लगती है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यातर लोग बाजार के खाने पर निर्भर होते जा रहे हैं।

और ऐसे में बाहर के खाना जैसे कि पिज्जा, बर्गर, मसालेदार खाने ज्यादा तले खाना खाने से शरीर के अंदर आंखों की रोशनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।

हमारे द्वारा किए गए भोजन में विटामिन की मात्रा कम होने के कारण भी शरीर के अंदर आंखों की परेशानी उत्पन्न होने लगती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि हम अपने द्वारा किए गए भोजन में संतुलित भोजन का सेवन नहीं करते हैं। अर्थात फल, दूध, हरी सब्जियों का सेवन नाम मात्र करते हैं। तो ऐसे में आंखों की रोशनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।

साथ ही साथ भोजन में विटामिंस की कमी होने के कारण आंखों की रोशनी बहुत तीव्र गति से कम होने लगती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आंख में रौशनी कम होने के लक्षण

आंखों की रोशनी का कम होना आंख से जुड़ी समस्याओं का सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा माना जाता है। ऐसे व्यक्ति जिनके आंखों से सामने वाली चीजों को साफ साफ ना देख पाना आंख में होने वाले रोग के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं।

दूर की वस्तु या पास की वस्तु को साफ साफ ना देख पाना आंखों की रोशनी के कम होने के लक्षण हो सकते हैं। कभी कभी आंख के रोशनी कमजोर होने के कारण पास की वस्तु साफ साफ नहीं दिखाई देती है।

दूसरी तरफ आंख में उत्पन्न हो रही समस्याओं के कारण कभी कभी दूर की वस्तु साफ-साफ देख पाने में काफी परेशानी उत्पन्न होने लगती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आंखों से लगातार पानी का आना आंखों की रोशनी के कमजोर होना या आंखों में उत्पन्न हो रहे रोगों के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं।

लगातार सर में दर्द होना और सर दर्द होने के बाद आंखों में भी दर्द होना आंख के रोग के प्रमुख लक्षण में आते हैं। साथ ही साथ ऐसे लक्षणों में आंख की रोशनी धीरे-धीरे कम होने लगती है।

आगे चलकर यदि सही समय पर इसका उपचार नहीं किया जाए तो हमारी आंख की रोशनी बिल्कुल कम हो जाती है।

कभी कभी आंख से पीड़ित रोगी को एक ही चीज दो दो जगह दो दो बार दिखाई देने लगती है। ऐसे समस्या में  व्यक्ति को सामने रखी वस्तु दो दो बार दिखाई देने लगती है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

कभी कभी आंखों में उत्पन्न हो रही समस्याओं के कारण हमारी आंखें तिरछी होने लगती है। आंखों में लगातार लाली का बना रहना भी हमारी आंखों की रोशनी के कम होने के संकेत होता हैं।

इन सभी लक्षणों के कारण कभी कभी कम आयु के बच्चों में भी आंखों की परेशानी उत्पन्न होने लगती है। आजकल के समय में लगभग 70 से 80% लोगों को आंखों से जुड़ी समस्याएं उत्पन्न हो रही है। और यह केवल हमारे असंतुलित भोजन और प्रदूषण के कारण हो रही है।

आंखों की रोशनी के समस्या को दूर करने के उपचार

आइए हम जानते हैं कि कैसे घरेलू नुस्खे और प्राकृतिक औषधियों के द्वारा हम अपनी आंखों की रोशनी को सही कर सकते हैं। साथ ही साथ आंखों से जुड़ी समस्याओं का समाधान भी कर सकते हैं। सबसे पहले यदि आप आंख से जुड़ी समस्याओं के लिए रासायनिक दवाइयों का सेवन कर रहे हैं। तो आपको इसे बंद करना होगा। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

क्योंकि रासायनिक दवाइयों का सेवन करने से हमारे आंखों से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के साथ-साथ यह हमारे शरीर के अंदर कई अन्य तरह की परेशानी उत्पन्न करने लगता है। साथ ही साथ रासायनिक दवाइयों का सेवन करने से शरीर के अंदर साइड इफेक्ट होते हैं।

जिससे शरीर के अंदर के रोग प्रतिरोधक क्षमता में काफी गिरावट आने लगती है। तो आइए हम जानते हैं घरेलू नुस्खे के बारे में जिस के उपयोग से हम अपने शरीर के अंदर हो रहे आंखों के परेशानियों को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं।

साथ ही साथ ऐसे व्यक्ति ने आंखों की परेशानी होने के कारण चश्मे का उपयोग करना पड़ता है। आज के प्राकृतिक औषधियों के उपयोग से आँख के रोगी को चश्मे से भी छुटकारा मिल सकता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आंखों की रोशनी की समस्याओं को दूर करने के लिए हमें अंदुरुनी और बाहरी दोनों तरह के उपचार करना अति आवश्यक है। अचानक से हम आंखों की रोशनी को सही नहीं कर सकते हैं। इसके लिए हमें अंदरूनी और बाहरी उपचार करना अति आवश्यक है।

सबसे पहले नुस्खे के निर्माण के लिए हमें बादाम और अखरोट के तेल की आवश्यकता होगी। आप सभी को बदाम और अखरोट का तेल आसानी से किसी भी किराने की दुकान पर प्राप्त हो जाएगा।

पहले नुस्खे को इस्तेमाल करने के लिए हमें बदाम के तेल और अखरोट के तेल के बराबर मात्रा में मिलाकर अपनी आंखों के चारों तरफ हल्के हाथों से मसाज करना है। ध्यान रहे कि हमारा नाखून बड़ा नहीं होना चाहिए। क्योंकि बढे हुए नाखून से यदि हमारे आंखों पर थोड़ा सा भी छील जाए तो यह इनफेक्शन उत्पन्न कर सकता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आप दोनों तेल को बराबर मात्रा में लेकर आंखों के चारों तरफ हल्के हाथ से मालिश करना है। इस औषधि का उपयोग रोजाना दिन में दो से तीन बार करें। लगातार इस नुस्खे को 10 से 15 दिन उपयोग करने से आपकी आंखों की रोशनी में राहत महसूस होगी।

आप महसूस कर पाएंगे कि पहले से आपकी आंखों में रोशनी की क्षमता बढ़ती जा रही है। इस नुस्खे का उपयोग करते समय हमें यह बात ध्यान रखनी है कि हमारी आंखें बंद होनी चाहिए। बादाम और अखरोट के तेल के उपयोग करने के बाद हमें आंखों के ऊपर खीरे के टुकड़े का उपयोग करना है।

इसके उपरांत आपको 10 मिनट तक इंतजार करना है। यदि आपके पास खीरे की व्यवस्था नहीं है। तो आप ठंडे पानी को सूती कपड़े में भीगाकर भी अपनी आंखों के ऊपर पट्टी के तरह उपयोग कर सकते हैं।

बादाम और अखरोट के तेल की मसाज करने से हमारे आंखों के अंदर उपस्थित नसों में रक्त का बहाव बढ़ने लगता है। जिससे हमारी आंखें धीरे धीरे स्वस्थ होने लगती है। आप अपनी आंखों को साफ रखने के लिए और आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए गुलाब जल का भी उपयोग कर सकते हैं। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

गुलाब जल के उपयोग करने के लिए हमें रात को सोने से पहले दो बूंद गुलाब जल दोनों आंखों में डालकर उसे एक से 2 मिनट तक के लिए छोड़ देना है। इसके बाद किसी सूती कपड़े से हमें दोनों आंखें साफ़ कर लेना है। आप देख पाएंगे कि गुलाब जल के उपयोग के बाद आपकी आंखों में जमा हो रहे गंदगी आसानी से बाहर निकल जाते हैं।

रोजाना रात को इस नुस्के को उपयोग करने से हमारी आंखें बिल्कुल साफ़ रहती है। और आंखों के अंदर हो रहे लाली को भी इससे दूर किया जा सकता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

आंखों की समस्या से परेशान हो रहे इंसानों को आंख धोने के लिए साधारण पानी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। आँख धोने के लिए हमेशा हमें साफ पानी का उपयोग करना चाहिए।

आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए हमें देसी गाय के घी का भी उपयोग करना लाभप्रद साबित होता है। देसी गाय के घी को हमने अपने कान के पीछे वाले हिस्से पर दिन में दो से तीन बार मसाज करने से आंख से जुड़ी समस्याओं को आसानी से खत्म किया जा सकता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

दिन में दो से तीन बार लगातार 15 दिनों तक इस नुस्खे के उपयोग करने से हमारी आंखों में हो रहे  परेशानियों से छुटकारा प्राप्त किया जा सकता है। आंख से जूझ रहे रोगियों को ज्यादा मात्रा में गाजर का सेवन करना चाहिए।

गाजर में भरपूर मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है। जो हमारी आंखों की परेशानियों को दूर करने के लिए पर्याप्त होता है। आंख से जुड़ी समस्या को दूर करने के लिए संतुलित भोजन और संतुलित आहार का सेवन करना अति आवश्यक है।

हरी सब्जियां, सेव, पालक, संतरे, गाजर, खीरा, चुकंदर इत्यादिओ के सेवन करने से आंखों की परेशानी को दूर किया जा सकता है। साथ ही साथ हमें कुछ ऐसी बातों का भी ख्याल रखना है। जिसकी सेवन हमें आंखों की परेशानियों में नहीं करना है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

जैसे ज्यादा मसालेदार सब्जियां, बाजारू भोजन, समोसे, पिज्जा, बर्गर के सेवन करने से हमारे शरीर के अंदर विटमिन भरपूर मात्रा नहीं उपलब्ध हो पाती है। जिसके कारण धीरे-धीरे हमारी आंखों की जुड़ी समस्याएं उत्पन्न होने लगती है।

कम आयु के बच्चे में हो रहे आंखों की समस्या को दूर करने के लिए उन्हें कम से कम समय टीवी कंप्यूटर और मोबाइल के सामने व्यतीत करने दे। कम आयु के बच्चे की आंखें नाजुक होती है। और ज्यादा समय टीवी मोबाइल और कंप्यूटर के सामने व्यतीत करने से इनकी आंखों की नसें सूखने लगती है।

आंखों की नसों के सूखने के कारण कम आयु के बच्चे में आंख से जुड़ी समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। और  आगे चलकर कम आयु के बच्चे में चश्मा लगाने की नौबत तक आ जाती है।

कम आयु के बच्चों को रोजाना रात को सोने से पहले एक गिलास दूध का सेवन करवाए। दूध एक ऐसा आहार है जिसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम, आयरन, विटामिन, पाए जाते हैं। और एक कम आयु के बच्चों के लिए यह पर्याप्त माना जाता है। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि आप सभी को मेरे द्वारा आँखों के रौशनी के बारे में दिया गया जानकारी पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्त और परिवार के बीच अवश्य शेयर कर दे। आँखों के रौशनी बहुत ही परेशान कर देने वाला रोग है। अतः आप के द्वारा शेयर करने से यह जानकारी बहुत सारे लोगों को आँखों के रौशनी के समस्या से राहत दिला सकता है। यदि आपको आँखों के रौशनी के इस जानकारी के बारे में कुछ पूछना है। या आप कुछ बताना चाहते हैं। तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। आँखों के रौशनी के इस जानकारी के लिए कमेंट करने का विकल्प आपको इस पोस्ट के नीचे आसानी से प्राप्त हो जाएगा। यदि आप किसी खास मुद्दे पर हमसे बातचीत करना चाहते हैं। तो आप हमें कमेंट के जरिए बता सकते हैं। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

मैसेज के जरिए बता सकते हैं। ईमेल के जरिए बता सकते हैं। मैसेज करने का विकल्प आपको हमारी वेबसाइट के होमपेज पर जाकर व्हाट्सएप के जरिए आसानी से प्राप्त हो जाएगा। यदि आप आँखों के रौशनी के रोग के बारे में किसी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी को रखते हैं। या फिर आँखों के रौशनी के उपचार के लिए किसी अन्य घरेलू नुस्खे के बारे में विस्तार से जानते हैं। तो आप हमारे साथ उस जानकारी को शेयर कर सकते हैं। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

यदि आपके द्वारा दिया गया जानकारी सत्य साबित होता है। तो हम आपके द्वारा दिए गए जानकारी को अपने वेबसाइट पर आप के नाम के साथ संलग्न करेंगे। यदि आपको इस जानकारी के पढ़ने के दौरान किसी प्रकार की असुविधा या दुविधा उत्पन्न होती है। तो आप हमें मैसेज के जरिए कमेंट के जरिए और ईमेल के जरिए बता सकते हैं। आप सभी के सुविधा और अच्छी जानकारी के लिए समय-समय पर हम अपने द्वारा दिए गए जानकारी को अपडेट करते रहते हैं। ऐसे में आपके द्वारा प्रदान किया गया जानकारी महत्वपूर्ण साबित होगा। (आंख की रोशनी कम होने के कारण लक्षण और उपाय)

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp us